Home » इंडिया » UIDAI says, face recognition to be must for Aadhaar verification of all authentications
 

Aadhaar सत्यापन के नियमों में हुआ बड़ा बदलाव, UIDAI ने शुरू किया ये नया फीचर

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 August 2018, 13:39 IST
(file photo )

अब आधार कार्ड सत्यापन के लिए चेहरे की पहचान करना अनिवार्य होगा. आधारकार्ड के लिए फिंगर प्रिंट और आईरिस स्कैन के अलावा चेहरा मिलान के लिए एक अडिशनल फीचर लाया गया है. आधार की सुरक्षा को ध्यान में रखकर UIDAI ने इस नए फीचर को जोड़ा है. UIDAI का कहना है कि इससे आधार की सुरक्षा के लिए एक अतिरिक्त प्रदान करता है.

एनबीटी की खबर के मुताबिक, UIDAI के सीईओ अजय भूषण पांडे ने कहा है कि कई बाद देखा गया है कि उम्र की वजह से फिंगर प्रिंट मिट गए हैं. ऐसे में आधार का मिलान नहीं हो पाता है. हमारे सामने ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं. फिंगर प्रिंट का मिलान नहीं होने से कई बुजुर्गों को आधार सत्यापन से बाहर कर दिया गया है. इन परेशानियों को देखते हुए इस नए फीचर को जोड़ा गया है. यह नया फीचर ऐसी समस्याओं में मददगार होगा.

File Photo

किन सेवाओं के लिए में चेहरे की पहचान जरूरी होगी जवाब में अजय भूषण पांडे ने कहा कि नए और ड्यूप्लिकेट सिम कार्ड्स, बैंक में आधार वेरिफिकेशन, पीडीएस राशन की दुकानों, सरकारी ऑफिस में अटेंडेंस जैसे अहम चीजों के लिए यह जरूरी होगा.

उन्होंने कहा कि वेरिफिकेशन के दौरान चेहरे की पहचान जरूरी होगी. फिलहाल इस नई प्रक्रिया को नयी सिम के लिए जरूरी बनाया गया है. 15 सितंबर से कम से कम 10 फीसदी ऑथेन्टकैशन चेहरे की पहचान के जरिए किए जाएंगे. उन्होंने आगे कहा कि ऑथेन्टकैशन का सिस्टम इतना प्रभावी है कि सामान्य बदलाव से चेहरे की पहचान पर कोई असर नहीं होगा.

ये भी पढ़ें-  Facebook पर भी देनी होगी आधार कार्ड की जानकारी!

 

First published: 24 August 2018, 13:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी