Home » इंडिया » UK high court rules favour of India on Hyderabad Nizam fund dispute
 

बड़ा फैसला: निजाम के अकूत खजाने पर होगा भारत का कब्जा, पाकिस्तान मलता रह गया हाथ

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 October 2019, 19:18 IST

हैदराबाद निजाम के फंड को लेकर पिछले 70 साल से चल रहे मामले में पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है. ब्रिटेन के एक हाई कोर्ट ने भारत के पक्ष में फैसला सुनाया है. इसके साथ ही निजाम के अकूत खजाने पर भारत का कब्जा हो जाएगा. 

बंटवारे के बाद लंदन के एक बैंक में जमा निजाम की रकम को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच मुकदमा चल रहा था. इस पर कोर्ट ने 70 साल बाद अपना फैसला सुनाया है. पाकिस्तान को झटका देते हुए कोर्ट ने साफ तौर पर कहा कि निजाम की अकूत रकम पर भारत का हक है.

कोर्ट ने आगे कहा कि इस पर निजाम के उत्तराधिकारियों का भी हक है. निजाम के वंशज प्रिंस मुकर्रम जाह और उनके छोटे भाई मुफ्फखम जाह भारत सरकार के साथ थे. विभाजन के दौरान हैदराबाद के 7वें निजाम मीर उस्मान अली खान ने लंदन स्थित नेटवेस्ट बैंक में 1,007,940 पाउंड यानि कि करीब 8 करोड़ 87 लाख रुपये जमा कराए थे.

वर्तमान समय में इस रकम की कीमत बढ़कर करीब 35 मिलियन पाउंड यानि करीब 3 अरब 8 करोड़ 40 लाख रुपये हो चुकी है. पाकिस्तान और भारत अभी तक इस भारी रकम पर अपना हक जताते रहे हैं. साल 1948 में हैदराबाद के तत्कालीन निजाम ने ब्रिटेन में पाकिस्तान के उच्चायुक्त को ये रकम भेजी थी.

इंग्लैंड के रॉयल कोर्ट ऑफ जस्टिस के जज मार्कस स्मिथ ने फैसला सुनाते हुए कहा कि हैदराबाद के 7वें निजाम उस्मान अली खान इस फंड के मालिक थे. उनके बाद उनके वंशज और भारत का इस पर मालिकाना हक बनता है और वही इस फंड के दावेदार हैं.

बता दें कि हैदराबाद के निजाम शाही खजानों के लिए मशहूर हैं. आखिरी निजाम का खजाना आरबीआई के एक वॉल्ट में बंद है. सिर्फ दो ही बार इसे प्रदर्शनी के लिए रखा गया है. साल 2001 और साल 2006 में निजाम के खजाने को सालर जंग म्यूजियम में प्रदर्शनी के लिए कुछ समय तक रखा गया था. निजाम के वंशज हिमायत अली मिर्जा की मांग है की इस खजाने को रिजर्व बैंक की वॉल्ट से निकालकर म्यूजियम में रखा जाए.

आजम खान को पत्नी और बेटे के साथ लाया गया थाने, SIT कर रही है पूछताछ

BJP सांसद का बयान- महात्मा गांधी अगर आज होते तो वह भी RSS में होते

First published: 2 October 2019, 19:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी