Home » इंडिया » UK parliament to organise debate on Kashmir Issue, India filed protest
 

ब्रिटेन की संसद में गूंजेगा कश्मीर मुद्दा, भारत ने दर्ज किया कड़ा विरोध

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 February 2019, 13:30 IST

भारत-पाकिस्तान के बीच लंबे समय से विवादित चला रहा कश्मीर मुद्दा अब ब्रिटेन की पार्लियामेंट में गूंजेगा. ब्रिटेन के सांसदों ने कश्मीर के हालत पर चर्चा करने के लिए ब्रिटिश पार्लियामेंट में एक बहस आयोजित करने की योजना बनाई है. कश्मीर मुद्दे पर बहस करने के लिए ब्रिटेन के सांसदों ने इस चर्चा का विषया रखा है- ''कश्मीर में राजनीतिक और मानवीय स्थिति.''

हालांकि इस चर्चा को लेकर भारत ने कड़ा विरोध दर्ज किया है. भारत का कहना है कि कश्मीर मुद्दे को लेकर किसी अन्य देश की संसद में कोई बहस नहीं होनी चाहिए. भारत ने विरोध दर्ज कराते हुए कहा है कि ऐसा करना भारत के मामले में टांग अड़ाने जैसा है. रेमीडिया न्यूज के मुताबिक इस मामले में भारत ने कहा है की यह ऐसा है कि जैसे कोई कश्मीर की संप्रभुता पर सवालिया निशान खड़ा करने की कोशिश कर रहा हो.

लैंडिग के दौरान हुआ बड़ा विमान हादसा, हलक में अटकी 201 यात्रियों की जान और फिर...

वहीं इस मामले में ब्रिटिश उच्चायोग के प्रवक्ता ने कहा, "ब्रिटेन के संसद सदस्य सरकार से स्वतंत्र हैं और यह उनका यह व्यक्तिगत और संवैधानिक मामला है कि वह सदन के अंदर कैसा आचरण करते हैं. यह सदस्यों के लिए तय करना है कि वे किससे मिलते हैं और क्या करते हैं."

क्यों उठा ये मुद्दा

ब्रिटेन की संसद में कश्मीर का मुद्दा लाने की बात कहा से उठी ये एक बड़ा सवाल है. बता दें, कि इस बहस की मांग करने वाले ब्रिटेन सांसद डेविड, ब्रिटेन की सांसद में ब्राडफोर्ड ईस्ट के रेप्रेज़ेंटेटिव हैं. गौरतलब है कि ब्राडफोर्ड ईस्ट वो इलाका है जहां पर अधिकतर पाकिस्तान मूल के लोगों का निवास है. ऐसा माना जा रहा है कि इस इलाके के लोगों ने ही अपने सांसद पर कश्मीर मुद्दे को लेकर बहस का दबाव बनाया है. वहीं पाकिस्तान के विदेश कार्यालय द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार इस बहस का आयोजन 4 फरवरी को लंदन में हुई प्रदर्शनी के बाद किया गया है.

26 जनवरी को हुई शर्मनाक घटना, इस जगह जलाया गया तिरंगा, झुक गया सवा सौ करोड़ भारतीयों का सिर

भारत ने की आलोचना

बता दें, ये बहस ब्रिटेन की संसद के मेन चेम्बर में नहीं होगी. ये बहस पार्लियामेंट के एक कमेटी हाल में होगी. लेकिन खबर ये भी है कि बहस को ऑफिशियली रिकॉर्ड किया जाएगा. भारत ने इस आयोजन के लिए ब्रिटिश सरकार के सामने अपना विरोध दर्ज कराया है. भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने इस बहस को लेकर कहा है कि ब्रिटेन की सरकार को अपनी आपत्ति दर्ज कराने के बाद हमें उम्मीद है कि वे कश्मीर मुद्दे पर आयोजित होने वाली इस बहस पर भारत की आपत्तियों को समझेंगे और उचित कार्रवाई करेंगे.

First published: 2 February 2019, 10:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी