Home » इंडिया » umar khalid paas controversial remark on burhan wani
 

उमर खालिद ने मारे गए आतंकी बुरहान वानी को चे ग्वेरा से जोड़ा

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 July 2016, 12:02 IST

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के छात्र उमर खालिद ने सोशल साइट फेसबुक पर कश्मीर में सुरक्षाबलों के हाथों मारे गए आतंकी बुरहान वानी के बारे में विवादित विचार जाहिर किये हैं.

खालिद ने फेसबुक पर पोस्‍ट में चे ग्वेरा के कथन से बुरहान को जोड़ते हुए क्रांतिकारी बताया है. खालिद ने लिखा, "चे ग्वेरा ने कहा था कि अगर मैं मारा भी जाऊं तो मुझे तब तक फर्क नहीं पड़ता जब तक कोई और मेरी बंदूक उठाकर गोलियां चलाता रहेगा, कुछ इसी तरह की सोच बुरहान वानी की भी हो सकती थी."

फेसबुक पोस्ट में इसके आगे लिखते हुए खालिद ने आतंकी बुरहान की शान में जो कसीदे पढ़े हैं, वो कुछ इस तरह से हैं, "बुरहान को मौत का डर नहीं था, उसे पराधीन होकर जीने का डर था. उसने इससे नफरत की. वह एक आजाद व्‍यक्ति के रूप में जिया और उसी तरह से मरा. भारत राज्‍य अधिग्रहण अपराध है. जो अपने डर को खत्‍म कर दे उसे आप कैसे हरा पाएंगे?"

गौरतलब है कि उमर खालिद पर इस साल 9 फरवरी को जेएनयू में आतंकी अफजल गुरु की बरसी मनाने और देश विरोधी नारे लगाने का आरोप है.

इस मामले में जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार समेत 21 छात्रों के नाम थे. इस मामले में यूनिवर्सिटी ने 25 अप्रैल को उमर खालिद के साथ तीन अन्‍य छात्रों को निकाल दिया था.

जेएनयू मामले में खालिद को एक सेमेस्‍टर के लिए बाहर किया गया और 20 हजार का जुर्माना भी लगाया गया.

First published: 10 July 2016, 12:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी