Home » इंडिया » UN IPCC Report on Climate Change warns sea levels will rise faster than projected
 

जलवायु परिवर्त से दुनिया पर मंडरा रहा तबाही का खतरा, पानी में समा जाएंगे ये द्वीप

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 September 2019, 11:08 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

जलवायु परिवर्तन के चलते दुनिया पर खतरा मंडरा रहा है. एक वैश्विक रिपोर्ट के एक प्रमुख लेखक के मुताबिक समुद्र स्तर बढ़ने और चक्रवाती तूफान जैसी आपदाओं के बढ़ने से अगले कुछ सालों में अंडमान-निकोबार जैसे द्वीपसमूह रहने लायक नहीं रहेंगे. इस बारे में IPCC यानी अंतरसरकारी समिति की विशेष रिपोर्ट में समुद्र और बदलती जलवायु पर आगाह किया गया है. जिसमें कहा गया है कि समुद्र के पानी का तापमान बढ़ने से भारत में चक्रवाती तूफान जैसी आपदाएं और बढ़ेंगी.

आईपीसीसी की रिपोर्ट के प्रमुख लेखक अंजल प्रकाश का कहना है कि, ''समुद्र के जलस्तर में बढ़ोतरी होने से अंडमान निकोबार, मालदीव जैसे द्वीपसमूहों को खाली करना पड़ सकता है. क्योंकि समुद्र का स्तर बढने की वजह से ये जगहें रहने लायक नहीं बचेंगी. जिसके चलते लोगों को वहां से विस्थापित करना पड़ेगा."

अंजल प्रकाश टेरी स्कूल ऑफ एडवांस्ड स्टडीज में क्षेत्रीय जल अध्ययन के एसोसिएट प्रोफेसर हैं. प्रकाश कहते हैं कि, ''वैश्विक तापमान में दो डिग्री सेल्सियस से भी कम बढ़ोतरी के बाद भी समुद्र का स्तर बढ़ेगा. उन्होंने कहा कि, "ग्लेशियर पिघलेंगे और कई समुदाय प्रभावित होंगे. भविष्य के लिए अनुकूलन पर ध्यान रखना होगा."

आईपीसीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, 20वीं सदी में दुनियाभर में समुद्र का स्तर करीब 15 सेंटीमीटर बढ़ गया है. रिपोर्ट के मुताबिक, ''समुद्र स्तर लगातार बढ़ता रहेगा. ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को तेजी से कम कर लिया जाए और वैश्विक तापमान की वृद्धि को 2 डिग्री सेल्सियस के नीचे सीमित कर लिया जाए, उसके बाद भी यह स्तर साल 2100 तक करीब 30 से 60 सेंटीमीटर पहुंच जाएगा. अधिक ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन की स्थिति में यह 60 से 110 सेंटीमीटर तक बढ़ जाएगा."

बता दें कि भारत का तटीय क्षेत्र एशिया में सातवां सबसे लंबा तटीय क्षेत्र है. इस रिपोर्ट को करीब 30 लेखकों ने तैयार किया है. इसमें कहा गया है कि, ''समुद्र के जल का तापमान बढ़ने से चक्रवाती तूफान जैसी आपदाएं आएंगी. इन आपदाओं के बढ़ने की आशंका है और भविष्य के दशकों में ये और भीषण हो जाएंगी.”

पृथ्वी के सबसे नजदीक से सितंबर में गुजरेगा क्षुद्र ग्रह, 23 हजार किलोमीटर होगी रफ्तार

First published: 26 September 2019, 11:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी