Home » इंडिया » Una: Dalits returning home after attending a protest rally, thrashed by mobs at Samter village
 

उना: रैली से लौट रहे दलितों पर भीड़ का हमला, 26 घायल

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 August 2016, 18:30 IST
(एएफपी)

गुजरात के गिर सोमनाथ जिले के उना में दलित अस्मिता रैली से लौट रहे दलितों के एक समूह पर समतर गांव के पास भीड़ ने हमला कर दिया, जिसमें 26 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. घायलों को भावनगर और राजुला के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.

घटना सोमवार शाम करीब 5 बजे हुई. पुलिस को भीड़ पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े और हल्का बल प्रयोग करना पड़ा. वहीं घायलों ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने उनकी मदद के लिए कुछ नहीं किया. उनका दावा है कि समतर गांव के निवासी पिछले महीने उना में दलितों की पिटाई करने की घटना को लेकर गिरफ्तार हुए 12 लोगों का 'बदला' लेना चाहते थे.

भीड़ ने उना-भावनगर रोड पर उन्हें समतर के पास रोका और उनकी पिटाई की. यह जगह मोटा समधिया गांव से ज्यादा दूर नहीं है, जहां पिछले महीने गौ-रक्षकों ने सात दलितों की बुरी तरह पिटाई की थी. 

गिर सोमनाथ पुलिस नियंत्रण कक्ष के एक अधिकारी ने कहा, 'समतर में सोमवार शाम पुलिस ने हिंसक भीड़ को भगाने के लिए आंसू गैस के गोले दागे. जब उन्होंने भागने से इनकार कर दिया, तो लाठी चार्ज भी किया गया.'

हमले में बाल-बाल बचे मावजीभाई सरवैया का आरोप है कि उन पर समतर गांव के लोगों ने हमला किया. उन्होंने कहा, 'उना दलित पिटाई कांड में अभी तक गिरफ्तार 30 लोगों में से 12 लोग समतर के रहने वाले हैं. यह उना से 11 किलोमीटर दूर स्थित है. मेरे सहित करीब 200 दलित बाइक से उना रैली में शामिल होने आए थे. जब हम लौट रहे थे, समतर के निवासियों ने सड़क को जाम कर दिया और बेरहमी से हमें पीटा.'

इससे पहले गुजरात के उना में दलित मार्च का सोमवार को समापन हो गया. अहमदाबाद से शुरू हुआ 350 किलोमीटर लंबा 10 दिवसीय पैदल मार्च यहां दलितों के प्रदर्शन स्थल पर समाप्त हुआ.

इस दौरान हजारों दलितों ने मृत गाय को नहीं हटाने का संकल्प लिया और कहा कि अगर एक महीने के भीतर गुजरात सरकार हर परिवार को पांच एकड़ जमीन देने की उनकी मांग को पूरा नहीं करती है, तो विशाल रेल रोको आंदोलन शुरू किया जाएगा. 

First published: 16 August 2016, 18:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी