Home » इंडिया » union Govt probing Alibaba’s UC Broswer for sending user data to servers abroad.
 

UC Browser पर सरकार ने कसी नकेल, डाटा चोरी के आरोप की होगी जांच

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 August 2017, 15:44 IST

केंद्र सरकार चीन की कंपनी अलीबाबा की स्वामित्व वाली यूसी ब्राउजर (UC Browser) पर नकेल कसने की तैयारी कर रही है. यूसी ब्राउजर (UC Browser) पर आरोप लगा कि है कि वो भारत का डाटा लीक कर चीन को दे रही है.

आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद की एक सरकारी लैब में इस बात की जांच की जा रही है कि चीनी कंपनी अलीबाबा के स्वामित्व वाली यूसी ब्राउजर (UC Browser) भारत का डाटा लीक कर रही है. हैदराबाद स्थित सी-डेक लैब की जांच में अगर पाया जाता है कि यूसी ब्राउजर भारतीयों का डाटा लीक कर रहा है तो सरकार इस ऐप के खिलाफ सख्त कदम उठा सकती है.

सूत्रों का कहना है कि यूसी ब्राउजर ने यूजर्स के नंबर सहित अन्य डिटेल चीन भेजे हैं. आरोप है कि, यूसी मुख्य रूप से भारतीय यूजर्स के आईएमएसआई (अंतरराष्ट्रीय मोबाइल ग्राहक पहचान) और आईएमईआई (अंतरराष्ट्रीय मोबाइल उपकरण पहचान) चीन स्थित सर्वर को भेजे हैं. आरोप है कि यूसी ब्राउजर के चीनी वर्जन से डाटा लीक होता है. 

सूत्रों का कहना है कि यूसी ब्राउजर ने भारत के 50 फीसदी ब्राउजर बाजार पर कब्जा कर लिया है. यूजी ब्राउजर को मोबाइल में ऑन करने के साथ ही वाई-फाई डिटेल और नेटवर्क इन्फॉर्मेशन चीन स्थित सर्वर में पहुंच जाता है.

गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद मोबाइल बनाने वाली कंपनियों को नोटिस भेजा गया है. इसमें पूछा गया है कि आखिर उन्होंने डाटा लीक से लेकर साइबर सुरक्षा के लिए फोन में क्या इंतजाम किए हैं. 

दरअसल पिछले साल आए एक अध्ययन के मुताबिक एशिया के तीन बड़ी आबादी वाले देश भारत, चीन और इंडोनेशिया में अलीबाबा समूह की कंपनी का यूसी ब्राउजर भारत में सबसे ज्यादा प्रयोग होने वाला मोबाइल ब्राउजर है.

First published: 22 August 2017, 15:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी