Home » इंडिया » University Professor Facebook post On Virgin Girls, says them a sealed bottle
 

प्रोफेसर ने किया शर्मनाक Facebook पोस्ट, वर्जिन लड़कियों को बताया सील बंद बोतल

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 January 2019, 12:58 IST

यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जैसे सम्मानित पद पर आसीन एक व्यक्ति से उम्मीद की जाती है कि वो अपने छात्रों को बेहतर इंसान बनने में उनका मार्गदर्शन करेंगे. लेकिन जादवपुर यूनिवर्सिटी के एक प्रोफेसर ने लड़कियों को लेकर जो शर्मनाक बातें कही हैं  वो बेहद घिनौनी सोच को दर्शाती हैं. इतना ही नहीं इस प्रोफेसर ने ये बातें लड़कों को एक वर्जिन लड़की का महत्त्व समझाने के लिए फेसबुक पर पोस्ट की है.

जादवपुर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर कनक सरकार ने फेसबुक पर एक पोस्ट किया था जिसमें उन्होंने वर्जिन लड़कियों को सील बंद बोतल बताया. इस पोस्ट पर उन्हें तीखी आलोचना का सामना करना पड़ा. इस विवाद के बाद उन्होंने पोस्ट तो डिलीट कर दिया लेकिन अभी भी अपनी पोस्ट के पक्ष में इस शर्मनाक बयान को अभिव्यक्ति की आजादी बता रहे हैं.

बता दें, कनक सरकार जादवपुर यूनिवर्सिटी में पिछले दो दशकों से इंटरनैशनल रिलेशन्स पढ़ा रहे हैं. लड़कियों के बारे में उन्होंने पोस्ट में लिखा था- ''क्या आप कोई कोल्ड ड्रिंक की बोतल या बिस्किट्स का पैकेट खरीदते वक्त सील टूटी होने पर भी उसे खरीद लेते हैं? एक लड़की जन्म से ही बायलॉजिकली सील होती है जब तक उसे खोला न जाए. वर्जिन लड़की में बहुत से मूल्य होते हैं, जैसे कल्चर, सेक्शुअल हाइजीन.''

अभी भी कर रहे अपनी पोस्ट का समर्थन

इस फेसबुक पोस्ट की चौतरफा आलोचना पर सरकार ने वो पोस्ट तो डिलीट किया लेकिन पोस्ट की तरफदारी करते हुए एक और फेसबुक पोस्ट करते हुए लिखा, ''मैंने अपने व्यक्तिगत विचार लिखे. सुप्रीम कोर्ट ने आईटी ऐक्ट के सेक्शन 66A को वापस ले लिया है और सोशल मीडिया पर अभिव्यक्ति की आजादी का आधिकार दे दिया है... मैंने किसी व्यक्ति के खिलाफ बिना किसी सबूत के नहीं लिखा है. मैं सोशल रीसर्च कर रहा हूं और समाज की अच्छाई और भलाई के लिए लिख रहा हूं... मैं रिक्वेस्ट करता हूं कि कनफ्यूज न हों. मैंने महिलाओं के समर्थन में कई पोस्ट लिखे हैं.''

प्रोफेसर जैसे सम्माजनक पद पर होते हुए भी महिलाओं के लिए इस तरह की टिप्पणियां ये दर्शाती हैं समाज में कोई कितने भी उच्च पद पर क्यों न चला जाए, महिलाओं के बारे में उनकी सोच अभी भी उतनी ही दकियानूसी और शर्मनाक है. समाज के युवाओं को मार्गदर्शित करने वाले प्रोफेसर की सोच जब ऐसी है तो युवाओं को महिलाओं के प्रति किस तरह की शिक्षा देंगे ये सोचने वाली बात है.

First published: 14 January 2019, 12:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी