Home » इंडिया » UP ATS confirms ISI Female agent traps indian army officer through facebook account
 

DRDO इंजीनियर की गिरफ्तारी के बाद ATS का खुलासा! रक्षा सीक्रेट ISI तक पहुंचाती है ये 'लड़की

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 October 2018, 15:33 IST
(file photo )

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के एक इंजीनियर को जासूसी के कथित मामले की जांच कर रही यूपी एटीएस ने एक और बड़ा खुलासा किया है. यूपी एटीएस की टीम ने एक महिला के नाम से चल रहे फेसबुक अकाउंट का पता लगाया है. जिसके जरिए भारत के रक्षा संसाधनों में सेंध लगाने का काम किया जा रहा था. ये फेसबुक अकाउंट काजल नाम की एक महिला के नाम से चल रहा है. ये महिला आईएसआई की एजेंट बताई जा रही है. महिला फेसबुक के जरिए भारतीय अधिकारियों को हनीट्रैप का शिकार बनाकर अहम जानकारी ले रही थी.

मीडिया खबरों के मुताबिक, यूपी एटीएस के सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि काजल नाम के फेसबुक अकाउंट के जरिए भारतीय रक्षा संस्थानों में सेंध लगाने का काम किया गया है. खुफिया एजेंसी को एक ऐसे फेसबुक प्रोफाइल के बारे में पता चला है जो किसी काजल नाम की महिला के नाम से सक्रिय है. ये महिला अगल अलग नाम से 15-20 फेसबुक प्रोफाइल बनाकर चला रही थी. खुफिया एजेंसियों ने आईएसआई के एक हजार से ज्यादा फेसबुक अकाउंट का पता लगाया है.

बताया जा रहा है कि काजल नाम से बने फेसबुक अकाउंट के जरिए देश के सैन्य और रक्षा संस्थानों से जुड़े लोगों को फंसाया जाता है. उनको हनीट्रैप का शिकार बनाया जाता है. रक्षा से जुड़ी जानकारी निकलवाती है. यूपी एटीएस के सूत्रों से पता चला है कि काजल नाम के फेसबुक अकाउंट से डीआरडीओ के वैज्ञानिक और बीएसएफ के जवान अच्युतानंद हनीट्रैप के शिकार हुए थे.

आपको बता दें कि सोमवार को यूपी एटीएस ने नागपुर के पास स्थित ब्रह्मोस एयरोस्पेस इकाई में कार्यरत निशांत अग्रवाल को पाकिस्तान को खुफिया जानकारी लीक करने के आरोप में गिरफ्तार किया है. एटीएस ने निशांत के नागपुर स्थित घर से एक कंप्यूटर जब्त किया गया जिसमें गोपनीय दस्तावेज पाए गए. उन्होंने कहा कि इस तरह के दस्तावेज किसी के निजी कंप्यूटर में नहीं होने चाहिए. एटीएस ने निशांत को कोर्ट में पेश किया. जहां से उसको तीन दिन के रिमांड पर भेज दिया गया है. एटीएस की टीम उससे पूछताछ कर रही है.

ये भी पढ़ें-  नागपुर: पाकिस्तान के लिए जासूसी कर रहा था DRDO कर्मचारी, ATS ने पकड़ा

First published: 9 October 2018, 15:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी