Home » इंडिया » UP CM Akhilesh Yadav demands 10,600 crores from Centre for drought hit state including Bundelkhand
 

सूखे से निपटने के लिए यूपी ने केंद्र से मांगे 10,600 करोड़

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST

सूखे की समस्या से देश के 13 राज्य बुरी तरह जूझ रहे हैं. वहीं यूपी के बुंदेलखंड में भी सूखे से बुरे हालात है. दिल्ली में पीएम मोदी और यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बीच संकट से निपटने को लेकर चर्चा हुई.

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने केंद्र सरकार से सूखे से निपटने के लिए 10,600 करोड़ रुपये की मदद मांगी है. बैठक के बाद अखिलेश यादव ने कहा कि पीएम ने मदद का भरोसा दिया है.

तीन हजार नए बोरवेल की मांग


बैठक के दौरान कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह और पीएमओ के अधिकारी भी मौजूद रहे. साथ ही यूपी सरकार ने बुंदेलखंड में सूखाग्रस्त इलाके के लिए तीन हजार नए बोरवेल की मांग की है. 

पढ़ें:बूंद-बूंद को तरसते बुंदेलखंड में पानी भेजने पर सियासत !

इसके अलावा केंद्र सरकार के सामने अखिलेश यादव ने 10 हजार वॉटर टैंकर और पांच हजार हैंडपंप की भी मांग रखी है.

तीन राज्यों के सीएम से चर्चा


देश में सूखाग्रस्त तीन राज्यों के हालात पर समीक्षा करने लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन राज्यों के मुख्यमंत्रियों को बैठक के लिए बुलाया था. जिसमें महाराष्ट्र और कर्नाटक के मुख्यमंत्री भी शामिल हैं.

सबसे पहले बैठक में पीएम मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बीच सूखे के हालात पर चर्चा हुई .

akhilesh2

पीआईबी


पानी पर सियासत


इससे पहले केंद्र सरकार की ओर से भेजी गई नीर रेल से पानी लेने से यूपी सरकार ने इनकार कर दिया था. सरकार ने कहा था कि वहां लातूर जैसे हालात नहीं हैं.

केंद्र ने बुंदेलखंड के सूखाग्रस्त महोबा इलाके में ट्रेन के जरिए पानी भेजा था. हालांकि झांसी के डीएम ने कहा था कि ट्रेन में लगे टैंकर खाली हैं.

इसके बाद अखिलेश सरकार ने मदद लेने से इनकार करते हुए सड़क के रास्ते पानी ढोने के लिए 10 हजार टैंकरों की मांग की थी. यूपी के 75 में से 55 जिले सूखे से प्रभावित हैं, जिनमें बुंदेलखंड इलाके के सात जिले भी शामिल हैं.

First published: 7 May 2016, 2:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी