Home » इंडिया » UP CM Akhilesh Yadav on Swami Prasad Maurya after exit from BSP
 

अखिलेश यादव: स्वामी प्रसाद मौर्य मजबूत नेता, गलत पार्टी में थे

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 June 2016, 15:02 IST
(एएनआई)

उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी से स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफा देने के बाद सियासत गरमाई हुई है. इस बीच मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी स्वामी प्रसाद के बसपा छोड़ने पर प्रतिक्रिया दी है. 

अखिलेश ने बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से बगावत करने वाले पार्टी महासचिव और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य की तारीफ करते हुए उन्हें मजबूत नेता बताया.

'कहां जाएंगे पता नहीं'

अखिलेश ने कहा, "यह अच्छी बात है कि मौर्य जी ने बसपा छोड़ दी. मुझे नहीं पता कि अब वह कहां जाएंगे, लेकिन मौर्य जी एक मजबूत नेता हैं. हमारे और उनके कितने अच्छे संबंध हैं, यह तो आप जानते ही हैं.

पढ़ें: मायावती को बड़ा झटका, स्वामी प्रसाद मौर्य का बसपा से इस्तीफा

हमने सदन में सभी विधायकों के सामने कहा था कि मौर्य जी अच्छे व्यक्ति हैं, लेकिन गलत दल में हैं. वह बात अब साफ हो गयी है."

सपा में शामिल होने की अटकलें

बसपा के कद्दावर नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के पार्टी छोड़ने के बाद उनके समाजवादी पार्टी में शामिल होने की अटकलें जोरों पर हैं. 25 जून को समाजवादी पार्टी ने संसदीय बोर्ड की बैठक बुलाई है. माना जा रहा है कि इस दौरान कैबिनेट विस्तार के साथ ही कौमी एकता दल के विलय विवाद पर चर्चा होगी.

वहीं स्वामी प्रसाद मौर्य ने अब तक साफ नहीं किया है कि वह किस पार्टी में जाने वाले हैं. लेकिन सियासी हलकों में उनके समाजवादी पार्टी के साथ जाने की भी खबरें हैं. मौर्य ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर टिकटों की नीलामी करने का आरोप लगाते हुए बुधवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया था.

मायावती पर अखिलेश की चुटकी

मौर्य के बसपा छोड़ने के बाद उनके सपा से रिश्ते जोड़ने वाली बसपा मुखिया मायावती के परिवारवाद सम्बन्धी आरोपों पर अखिलेश ने चुटकी लेते हुए कहा, "मैंने हर पत्रकार साथी से कहा है कि जब भी उनका (मायावती) नाम लिया करो, तो बड़े सम्मान से बुआ जी कहा करो.

उन्होंने सपा में बच्चों के बच्चे और फिर उनके बच्चों के बच्चे के राजनीति करने की बात कही है. हमारे बच्चे तो बहुत छोटे हैं. उनके इस स्थिति में आने में अभी 12-15 साल लगेंगे. तब तक क्या परिवर्तन होगा, कौन जाने?" 

'जनता के भरोसे पर खरे उतरे'

अखिलेश यादव ने इस दौरान कहा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा का चुनाव बड़ा चुनाव है. हर दल कोशिश कर रहा है कि उसे जनता का समर्थन मिले. समाजवादी सरकार जनता की भावनाओं और भरोसे पर खरी उतरी है.

साथ ही सीएम ने कहा, "जब हम चुनाव में जा रहे हैं, तो विरोधी लोग तो कोशिश करेंगे ही कि हम दोबारा सत्ता में नहीं आएं. जिनके पास विकास का कोई मुद्दा नहीं है, वह तो हमें घेरेंगे ही. विधानसभा की दीवारों पर भी नारे लिखे हैं."

First published: 23 June 2016, 15:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी