Home » इंडिया » UP CM Yodi adiyanath visited Varanasi late night for development projects underway inspections
 

आधी रात 'विकास' का जायजा लेने वाराणसी पहुंचे यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 October 2018, 9:57 IST

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी दौरे के दौरान शहर में चल रहे विकास कार्यों का औचक निरीक्षण किया. काशी में दो दिन के दौरे पर पहुंचे सीएम योगी ने अचानक आधी रात को रिंग रोड का निरिक्षण करने का फैसला किया. इसके बाद उसी समय वो रामनगर निर्माणाधीन बंदरगाह पहुंच कर उसका स्थलीय निरीक्षण किया.

इस औचक निरिक्षण के दौरान उन्होनें कार्यस्थल पर तैनात अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश भी दिए. इस दौरान उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा, ''प्रधानमंत्री द्वारा देश का पहला मल्टी मॉडल हब इनलैंड वॉटर-वे के काशी को दिया जा रहा है. यह अपने आप में एक अद्भुत कार्य है. सैकड़ों वर्षों से जिस कार्य की तलाश थी, जिस बात को लेकर लोग उत्सुक थे कि क्या जल मार्ग से भी हम यातायात की सुविधा को या माल परिवहन की व्यवस्था को और सुगम बना सकते हैं, वो अब पूरी होने जा रही है.''

प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ़ करते हुए सीएम योगी ने कहा कि पीएम की दूरदृष्टि के कारण वाराणसी में ऐसा होने जा रहा है. इस प्रयासों के बाद काशी को केवल सांस्कृतिक और आध्यात्मिक नगरी ही नहीं, बल्कि हर प्रकार के यातायात के लिए भी जाना जाएगा.

 

उन्होंने बताया कि विकास कार्यों के चलते पहले काशी में फोर लेन, सिक्स लेन, एयरप्लेन के मार्गों का निर्माण हो चुका है. और अब देश के पहले अत्याधुनिक जलमार्ग की शुरुआत वाराणसी से ही होगी. उन्होंने कहा कि हल्दिया (पश्चिम बंगाल) से काशी तक 14 किलोमीटर की यह दूरी सड़क मार्ग, रेल मार्ग और वायु मार्ग की तुलना में कम दाम पर यह सुविधा यहां प्राप्त होगी, इसे नवंबर के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा.

जल मार्ग से मिलेगी कई सुविधाएं

जल मार्ग बन जाने से यातायात में काफी सुगमता हो जाएगी. इस जल मार्ग के माध्यम से 1 महीने में 100000 टन से अधिक की ढुलाई काशी से हल्दिया तक और कोलकाता से वाराणसी तक की जा सकती है. इस जल मार्ग के शुरू होने से माल के किराए में कमी आएगी. इस जल मार्ग से आने वाले समय में होने वाली सुविधाओं को बताते हए सीएम योगी ने कहा, ''हमें विश्वास है कि नवंबर के अंत तक इसे राष्ट्र को समर्पित करने में मदद मिलेगी.''

First published: 29 October 2018, 9:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी