Home » इंडिया » UP CM yogi says his comment on Bajranbali was manipulated
 

हार के बाद 'नाराज बजरंगबली' को मनाने में जुटे योगी, बोले- नहीं बताई थी जाति

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 December 2018, 10:39 IST

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भारतीय जनता पार्टी की पांचों राज्यों में हुई करारी हर के बाद बैकफुट पर नजर आ रहे हैं. भगवान् हनुमान को लेकर दिए एक बयान को लेकर सीएम योगी को काफी आलोचना देखनी पड़ी थी. यहां तक की चुनावी हार के लिए लोग मजाक बताते हुए बजरंबली के नाराज होने का हवाला दे रहे थे. बता दें कि चुनावी रैलियों एक दौरान बीजेपी के समर्थन में एक जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने भगवान हनुमान को दलित बताया था. उनके इस बायां के बाद से ही हनुमान को लेकर भी जुबानी जंग शुरू हो गयी थी.

अब अपने उसी बयान पर सफाई पेश करते हुए सीएम योगी ने कहा है,'' मैंने बजरंग बली की जाति नहीं बताई. उन्होंने कहा कि देवत्व व्यक्ति के कृतित्व में समाहित होता है और किसी भी जाति का आदमी देवत्व को प्राप्त कर सकता है.'' उनका ये बयान चुनावों में मिली हार के बाद आया है. हालांकि विवाद शुरू होने के समाय भी वह अपने बयान पर सफाई पेश कर चुके यहीं. बता दें कि पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ तीनों ही राज्यों में बीजेपी को सत्ता से बाहर होना पड़ा है.

लेकिन हाल ही में बीजेपी के हारने के बाद एक बार फिर से उन्होने इस बात को दोहराया उन्होंने कहा है कि उनकी बात को बिना कारण ही लोग इतना बढ़ा रहे हैं. उनके बयान को तोड़ मरोड़ कर उसकी बल की खाल निकाली जा रही है. साथ ही उन्होंने सरकार के कामों को लेकर कहा कि उंगली उठाना आसान होता है लेकिन जिम्मेदारी निभाना मुश्किल काम है.

ये भी पढ़ें- एक दूसरे को दुश्मन मानने वाली BJP और कांग्रेस, इस राज्य में मिलकर मना चुकी है सरकार

वहीं चुनावों में मिली हार पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए योगी ने कहा, ''जिन लोगों ने झूठ बोलकर सत्ता हथिया ली है वो जल्दी ही जनता के सामने एक्सपोज होंगे.'' वहीं पूर्व में ईवीएम को लेकर उठे सवालों पर तंज करते हुए योगी ने कहा कि आज जब जीत मिल गई है तो कोई ईवीएम पर सवाल नहीं उठाएगा. कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि जीत के बाद ईवीएम पर सवाल न उठाना ही उनकी राजनीति का दोहरा चरित्र है.

ये भी पढ़ें- टूट गया अमित शाह का 'कांग्रेस मुक्त भारत' का सपना, भाजपा मुक्त हो गए पांच राज्य

First published: 13 December 2018, 8:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी