Home » इंडिया » UP mein netaon ki kami nhi hai, Rajnath Singh on being asked abt speculations of him being BJP's face in UP polls
 

राजनाथ सिंह: यूपी बीजेपी में नेताओं की कमी नहीं है

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 June 2016, 16:01 IST
(ट्विटर)

यूपी में विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी का चेहरा बनाए जाने की संभावनाओं पर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह की प्रतिक्रिया आई है. राजनाथ सिंह ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में नेताओं की कमी नहीं है.

दरअसल राजनाथ सिंह से मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवारी को लेकर सवाल पूछा गया था. राजनाथ ने कहा कि यह सवाल पूरी तरह से काल्पनिक है. यूपी बीजेपी में नेताओं की कमी नहीं है, हम तो पहले से एक जगह हैं ही. 

राजनाथ के चेहरे पर चुनाव?

दरअसल, इससे पहले मीडिया में पार्टी सूत्रों के हवाले से खबरें आई थीं कि भारतीय जनता पार्टी, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के चेहरे को आगे रखकर राज्य में विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी में है.

दरअसल बीजेपी के पास उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी की मायावती और समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव (वर्तमान मुख्यमंत्री) को टक्कर देने के लिए कोई मजबूत और अनुभवी चेहरा नहीं दिख रहा है. ऐसे में राजनाथ को पेश करने की संभावनाएं खारिज भी नहीं की जा सकतीं.

ये भी माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव में मतदाताओं को स्पष्ट संदेश देने के लिए उन्हें राज्य में प्रचार समिति की कमान भी सौंपी जा सकती है. हालांकि इस पर फिलहाल कोई अंतिम फैसला नहीं हुआ है.

माना जा रहा है कि इलाहाबाद में होने वाली बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के दौरान इस पर चर्चा हो सकती है. बताया जा रहा है कि कार्यकारिणी के लिए बनाए गए पोस्टरों में राजनाथ के चेहरे को अहमियत दी गई है.

इससे पहले मोदी सरकार के दो साल पूरे होने पर 26 मई को यूपी के सहारनपुर में हुई रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ राजनाथ सिंह मौजूद थे. उन्होंने इस दौरान रैली को संबोधित भी किया था.

पठानकोट में विकास पर्व पर विचार संगोष्ठी को संबोधित करते गृहमंत्री राजनाथ सिंह (ट्विटर)

इसके अलावा राजनाथ सिंह उत्तर प्रदेश में कई रैलियों को संबोधित करते भी नजर आ रहे हैं. हाल ही में अमरोहा में राजनाथ सिंह ने किसानों की रैली को संबोधित किया था.

गुरुवार को मऊ में भी उन्होंने किसानों की रैली को संबोधित किया. इससे पहले राजनाथ सिंह ने ही 24 अप्रैल को सारनाथ से 'धम्म चेतना यात्रा' को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था, जिसका समापन लखनऊ में 14 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे.

प्रचार अभियान की मिलेगी कमान?

राज्य में मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के नाम पर अभी चर्चा होना बाकी है. गोरखपुर सांसद और हिंदुत्व के फायर ब्रांड नेता माने जाने वाले योगी आदित्यनाथ के समर्थक भी प्रदेश में उनकी उम्मीदवारी को लेकर मुहिम चला रहे हैं.

चुनाव प्रचार के लिए तय किए जा रहे कार्यक्रमों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के अलावा राजनाथ सिंह की कई रैलियां आयोजित करने पर मंथन हो रहा है.

राजनाथ सिंह इससे पहले भी 2000 से 2002 के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. मौजूदा समय में केंद्रीय कैबिनेट में नंबर दो की हैसियत रखने वाले राजनाथ को कल्याण सिंह के बाद राज्य में पार्टी का सबसे कद्दावर नेता माना जाता है.

अभी कल्याण सिंह राजस्थान के राज्यपाल की जिम्मेदारी निभा रहे हैं. यूपी में विकास, भ्रष्टाचार और कानून यवस्था के मुद्दों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही बीजेपी में किसी चेहरे को आगे करने पर अभी एक राय नहीं दिख रही है.

पार्टी के एक हिस्से का यह भी मानना है कि राजनाथ को आगे करने से ब्राह्मण मतदाता खफा हो सकते हैं, इसीलिए उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में पेश करने पर फैसला लेने की संभावनाएं कम हैं.

हालांकि उन्हें पार्टी के प्रचार अभियान का प्रमुख चेहरा बनाया जा सकता है. सियासी हलकों में एक चर्चा यह भी है कि राजनाथ सिंह स्वयं भी मुख्यमंत्री प्रत्याशी के रूप में प्रोजेक्ट किए जाने को लेकर उत्साहित नहीं हैं.

इस बीच राजनाथ सिंह ने अपने संसदीय क्षेत्र लखनऊ में कई कार्यक्रमों में आज शिरकत की. राजनाथ ने लखनऊ जंक्शन रेलवे स्टेशन पर हाई स्पीड वाई-फाई और इंटीग्रेटेड सिक्योरिटी सिस्टम जैसी सुविधाओं का उद्घाटन किया. इस दौरान रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा भी मौजूद रहे.

First published: 10 June 2016, 16:01 IST
 
अगली कहानी