Home » इंडिया » UP: No-ball decision costs umpire his sister
 

अलीगढ़: क्रिकेट मैच में 'नो बॉल' से अंपायर के घर मातम

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST
(पत्रिका)

अलीगढ़ के थाना खैर के गांव जरारा के रहने वाले राजकुमार ने ये कभी नहीं सोचा होगा कि अंपायरिंग करते वक्त उनके द्वारा दिया गया 'नो बाल' का एक फैसला उनकी बहन की मौत का कारण बन जाएगा.

घटना पिछले शुक्रवार की बताई जा रही है. जानकारी के अनुसार उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से 20 किलोमीटर दूर जरारा कस्‍बे में गांव वालों द्वार जरारा प्रीमियर लीग का आयोजन किया गया था.

इस मैच में राज कुमार अंपायरिंग कर रहे थे. जरारा और बारिकी के बीच में चल रहे मैच में अंपायर राज कुमार ने रोमांचक मोड़ में एक गेंद को 'नो बॉल' करार दे दिया.

अंपायर के इस फैसले से खिलाड़ी संदीप पाल नाराज हो गया और अंपायर के पास जाकर विरोध दर्ज कराया. लेकिन अंपायर अपने फैसले पर अड़े रहे. इस पर गुस्‍सा होकर संदीप ने उसे पीटना शुरू कर दिया और कहा कि अंपायर को इस गलती की भारी कीमत चुकानी होगी.

इसके बाद रविवार शाम पांच बजे राजकुमार की बहन पूजा अपनी तीन सहेलियों के साथ जंगल से गीली मिट्टी लेने गई थी. इसी दौरान संदीप बंदूक लेकर वहां आया और बंदूक की नोंक पर उन्‍हें जहर मिली कोल्‍ड ड्रिंक पीने को कहा.

कोल्ड ड्रिंक पीने के बाद चारों की हालत बिगड़ गई और पूजा की कुछ ही देर बाद मौत हो गई. बाकी तीनों लड़कियां जिनकी पहचान रूपवती, प्रीति और कुसुम के रूप में हुई है, फिलहाल मलखान सिंह हॉस्पिटल में भर्ती हैं. तीनों की हालत नाजुक बनी हुई है. पुलिस वारदात की तफ्तीश में जुट गई है.

First published: 31 May 2016, 5:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी