Home » इंडिया » Supporters of Shivpal Singh & Akhilesh Yadav create ruckus outside Shivpal’s residence in Lucknow
 

खानदान का घमासान: पहली बार अखिलेश समर्थकों ने मुलायम मुर्दाबाद के लगाए नारे

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 September 2016, 13:38 IST
(एएनआई)

यूपी में समाजवादी खानदान का घमासान खत्म होता नहीं दिख रहा. शुक्रवार को हुए घटनाक्रम को सीएम अखिलेश यादव की हार के तौर पर देखा गया. शनिवार को समाजवादी संग्राम एक बार फिर सड़क पर पहुंच गया.

सीएम अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल यादव के समर्थकों ने बगावत का बिगुल फूंकते हुए पार्टी मुख्यालय पर पहुंचकर अपने-अपने नेता के समर्थन में नारेबाजी की. खास बात यह है कि इस दौरान पहली बार अखिलेश समर्थकों ने सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के खिलाफ नारेबाजी की.

सपा के चारों युवा संगठनों सपा छात्रसभा, लोहिया वाहिनी, युवजन सभा और यूथ ब्रिगेड के कार्यकर्ताओं ने लखनऊ में विक्रमादित्य मार्ग पर सपा मुख्यालय के सामने शिवपाल को हटाकर अखिलेश को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद पर वापस लाने की मांग करते हुए नारेबाजी की.

अखिलेश समर्थक सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के आवास पर भी पहुंच गए. इस दौरान अखिलेश समर्थकों ने नेताजी यानी सपा सुप्रीमो के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की. इससे समाजवादी परिवार में मचा घमासान एक बार फिर सतह पर आता नजर आ रहा है. हालांकि शुक्रवार को माना गया कि विवाद का अंत हो गया है.

लखनऊ में अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के समर्थकों ने हंगामा मचाया है. (एएनआई)

अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष बनाने की मांग

सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव द्वारा शुक्रवार को पार्टी में कोई मतभेद न होने का दावा किए जाने और शिवपाल से छीने गए सभी विभाग वापस करने के बाद ऐसा लगा था कि पार्टी में उभरे मतभेद फिलहाल खत्म हो गए हैं.

मुलायम सिंह यादव यूथ ब्रिगेड के अध्यक्ष मुहम्मद एबाद ने कहा, "हमने नेताजी (मुलायम) को अपनी भावनाओं से अवगत करा दिया है. हम (सभी चारों युवा संगठन) अखिलेश जी के सिवाय और किसी के साथ काम नहीं कर सकते. अखिलेश जी को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए जाने से युवा दुखी और हताश हैं, यहां तक कि हम उनके पक्ष में आत्मदाह भी कर सकते हैं."

सपा के युवा संगठनों के अध्यक्ष रह चुके विधान परिषद सदस्य राजपाल कश्यप और आनन्द भदौरिया ने भी अखिलेश के पक्ष में नारेबाजी की.

लखनऊ विश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष राजपाल कश्यप ने कहा, "नेताजी कई मौकों पर कह चुके हैं कि युवाओं को पार्टी का नेतृत्व करना चाहिए. हम अखिलेश जी को वापस लाना चाहते हैं. वह युवाओं के निर्विवाद नेता हैं."

मुलायम की अखिलेश को फटकार!

विरोध प्रदर्शन के दौरान अखिलेश और शिवपाल समर्थक आमने-सामने हो गए. सूत्रों के मुताबिक इस रस्साकशी से नाराज मुलायम सिंह यादव ने सीएम अखिलेश यादव को अपने आवास पर बुलाकर डांट लगाई. बताया जा रहा है कि मुलायम के कड़े रुख को देखते हुए अखिलेश ने समर्थकों को वापस जाने को कहा.  

मुलायम सिंह यादव का गायत्री प्रजापति की बर्खास्तगी रद्द करने वाला बयान और फिर अखिलेश की इस पर स्वीकृति के बाद माना गया कि अखिलेश ने अपने फैसले पलटकर विवाद का पटाक्षेप कर दिया है. लेकिन लखनऊ की फिजाओं में सियासी अटकलबाजियों का दौर 12 सितंबर से ही जारी है.

First published: 17 September 2016, 13:38 IST
 
अगली कहानी