Home » इंडिया » Uproar in Parliament over two women thrashed by Hindu activists for allegedly carrying beef in Mandsaur of MP
 

मंदसौर में बीफ की अफवाह पर महिलाओं की पिटाई का मामला संसद में गूंजा

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 July 2016, 15:17 IST
(राज्यसभा टीवी)

मध्य प्रदेश के मंदसौर मेें बीफ की अफवाह पर महिलाओं की पिटाई का मामला संसद के मानसून सत्र में गूंजा. बसपा सुप्रीमो मायावती ने राज्यसभा में यह मुद्दा उठाया जिस पर उन्हें कांग्रेस और विपक्षी पार्टियों का साथ मिला. 

जबरदस्त हंगामे के बाद कई बार कार्यवाही बाधित हुई. जिसके बाद सदन की कार्यवाही को दो बजे तक के लिए स्थगित किया गया.  मायावती ने इस दौरान कहा, "

बीजेपी नारा देती है- महिलाओं के सम्मान में, बीजेपी मैदान में. जबकि बीजेपी शासित मध्य प्रदेश में बीफ की अफवाह पर महिलाओं को पीटा जाता है." मायावती ने दलितों की पिटाई का मुद्दा भी उठाया.

मध्यप्रदेश के मंदसौर में खुद को गौररक्षक बताने वाले कुछ लोगों ने दो महिलाओं की पिटाई कर दी. ऐसा बीफ की अफवाह के बाद किया गया. मायावती ने राज्यसभा में कहा कि इस पूरी घटना के दौरान पुलिस मूक दर्शक बनकर खड़ी रही.

'गौरक्षा के बहाने न बनें निशाना'

एमपी में कथित गौ रक्षकों द्वारा महिलाओं की पिटाई के मामले पर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, "गौ रक्षक होने चाहिए, लेकिन उसके नाम पर बहाना करके दलित और मुसलमानों को टारगेट करो, हम इसके खि‍लाफ हैं." 

बीजेपी सांसद मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, "हिंसा की घटना चाहे जिस किसी राज्य में हो निंदनीय है. मायावती जी ने अभी जिस मुद्दे की बात की मध्य प्रदेश की सरकार ने उस पर कार्रवाई की है."

इस बीच मध्य प्रदेश के गृह मंत्री भूपिंदर सिंह का इस मामले पर कहना है कि शुरुआती जांच रिपोर्ट के मुताबिक गाय नहीं भैंस का मांस था. गृहमंत्री ने कहा है कि अगर पीड़ित महिलाएं शिकायत दर्ज कराती हैं तो हमलावरों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.  

First published: 27 July 2016, 15:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी