Home » इंडिया » Uri Terror Attack: Shiv Sena targets PM Modi; says situation worse than it was during Congress rule
 

उरी हमले पर शिवसेना ने कहा- 'मोदी राज में कांग्रेस सरकार से भी बदतर हालात'

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:48 IST
(पत्रिका)

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के जरिए उरी आतंकी हमले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. सामना के संपादकीय में केंद्र की मोदी सरकार पर सवाल उठाए गए हैं.

सामना ने लिखा, "आज की स्थिति कांग्रेस के शासन से भी ज्यादा बदतर हो चुकी है और यदि प्रधानमंत्री पाकिस्‍तान पर हमला करने व आतंकियों को निकालने में असफल हैं, तो दुनिया में वैश्‍विक छवि बनाने की उनकी कोशिश बेकार साबित होगी. सेना ने जम्‍मू-कश्‍मीर में सरकार को भंग करने और राज्‍य में मार्शल लॉ लागू करने की मांग की, ताकि वहां आतंकियों व पाकिस्‍तान समर्थकों से कड़ाई से निबटा जा सके."

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में कहा, "इस बात को स्‍वीकार करना होगा कि मौजूदा हालात कांग्रेस राज की तुलना में बदतर है. जब जम्‍मू-कश्‍मीर में पाकिस्‍तानी झंडा फहराया गया और पाक समर्थन में नारे लगाए जा रहे हैं, तो केंद्र की ओर से राज्‍य सरकार को भंग कर मार्शल लॉ लागू करना चाहिए."

संपादकीय में आगे कहा गया, "पाकिस्‍तान ने भारत के खिलाफ खुले तौर पर जंग छेड़ दिया है, जबकि हम केवल चेतावनी जारी कर रहे हैं. पठानकोट आतंकी हमले में भी जांच के बाद किसी तरह की कार्रवाई नहीं की गई. हम आतंकी हमले में पाकिस्‍तान के शामिल होने के सबूत क्‍यों ढूंढ रहे हैं? अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर इन सबूतों का कोई महत्‍व नहीं है."

'अंतरराष्‍ट्रीय छवि बनाने का कोई अर्थ नहीं'

शिवसेना ने कहा, "यदि मोदी को पाकिस्‍तान पर हमला करने की हिम्‍मत नहीं है जैसा कि अमेरिका ने ओसामा बिन लादेन के साथ किया तो फिर अंतरराष्‍ट्रीय छवि बनाने का कोई अर्थ नहीं."

सामना में आगे कहा गया कि अगर पाकिस्‍तान चार आतंकियों से भारत में खौफ पैदा कर सकता है, तो भारत अपने सुरक्षा बलों से पाकिस्‍तान पर हमला क्‍यों नहीं कर सकता. शहीद जवानों के कफन को सजा कर विदेश से सांत्‍वना व सहानुभूति प्राप्‍त करने से कुछ नहीं होगा. जम्‍मू-कश्‍मीर में आतंकी हमला रोज की कहानी हो गई है. यह किसकी असफलता है?"

गौरतलब है कि पाकिस्‍तान से आए जैश-ए-मोहम्‍मद के हथियारों से लैस आतंकियों ने रविवार को कश्‍मीर के उरी में हमला किया, जिसमें अब तक 18 जवान शहीद हो चुके हैं. एनआईए को हमले की जांच सौंपी गई है.

First published: 19 September 2016, 5:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी