Home » इंडिया » Using canines to make a political statement
 

कांग्रेस का 'कुत्ता प्रदर्शन'

राजीव खन्ना | Updated on: 12 February 2016, 22:32 IST
QUICK PILL
  • लुधिायाना में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने स्थानीय सांसद रवनीत सिंह बिट्टू के नेतृत्व में नगर निगम के दफ्तर में आवारा कुत्तों को छोड़ दिया. प्रदर्शनकारी शहर में आवारा कुत्तों की बढ़ती समस्या को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे.
  • निगम ने इस मामले में पुलिस को शिकायत देकर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की अपील की है.

सच्चाई यह है कि पंजाब में जमीनी राजनीति तमाशे में तब्दील हो गई है. लुधियाना में कांग्रेस नेताओं के प्रदर्शन के तरीकों को देखकर तो कम से कम यह कहा ही जा सकता है. कांग्रेसी नेता आवारा कुत्तों की समस्या और कुत्तों के काटने की घटना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करना चाहते थे.

कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने स्थानीय सांसद रवनीत सिंह बिट्टू के नेतृत्व में करीब 30 से अधिक कुत्तों को सराभा नगर के नगर निगम के दफ्तर में छोड़ दिया. इन कुत्तों को गाड़ियों में भरकर लाया गया था और जब कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने इन्हें नगर निगम के दफ्तर में छोड़ा तो वहां भगदड़ मच गई.

dog protest

विरोध प्रदर्शन से निपटने के लिए तैनात किए गए पुलिसकर्मियों को इस बात का अंदेशा था कि उन्हें प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करना होगा लेकिन जब कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने कुत्तों को छोड़ा तो उन्हें समझ में नहीं आया कि इससे कैसे निपटा जाए.

कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने करीब 30 से अधिक कुत्तों को सराभा नगर के नगर निगम के दफ्तर में छोड़ दिया

मौके पर मौजूदा एक फोटोग्राफर ने बताया, 'किस्मत की बात यह रही कि कुत्ते ने किसी को नहीं काटा. भगदड़ की हालत में कुत्ते काट सकते हैं. निगम में चौतरफा भगदड़ का माहौल था.' मौके पर मौजूद लोगों ने कहा कि बिट्टू के हाथ में भी कुत्ते की चेन थी और उन्होंने जोनल कमिश्नर को कुत्ते को छूने के लिए कहा.

निगम ने इस मामले में पुलिस को शिकायत देकर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की अपील की है. अन्य शहरों की तरह ही लुधियाना में भी आवारा कुत्तों की भरमार है. शहर प्रशासन कुत्तों को स्टेरेलाइज किए जाने के मामले काम कर रहा है और इसके लिए निकाय ने 2.5 करोड़ रुपये का बजट रखा है.

लुधियाना शहर प्रशासन कुत्तों को स्टेरेलाइज करने के लिए 2.5 करोड़ रुपये का बजट रखा है

अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने अभी तक 10,300 कुत्तों को स्टेरेलाइज किया है और उनकी योजना 25,000  कुत्तों को स्टेरेलाइज करने की है. इस साल जून में एक बार फिर से सर्वे किया जाएगा. जानवरों के अधिकारों के लिए काम करने वाले कार्यकर्ताओं ने कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को गिरफ्तान किए जाने की मांग की है क्योंकि उन्हें राजनीतिक मकसद से जबरन पकड़ा गया. 

First published: 12 February 2016, 22:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी