Home » इंडिया » uttarakhand rainfall flood landslide in uttarkashi chamoli tehri
 

बादल फटने से उत्तराखंड में चारों ओर मची तबाही, कई ग्रामीण मलबे में दबे, रेस्क्यू में लगाए गए 2 हेलीकॉप्टर

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 August 2019, 10:11 IST

उत्तराखंड में बाढ़ और भूस्खलन की वजह से काफी नुकसान हुआ है. उत्तराखंड के आठ जिलों में तबाही मची हुई है.  कई इलाकों में बादल फटने के कारण कोहराम मचा हुआ है. वहीं, कई जगहों में भूस्खलन से पहाड़ टूट कर सड़कों पर आ गई हैं.

उत्तरकाशी, बागेश्वर, लामबगड़, चमोली और टिहरी के हालाता तो बद से बदत्तर होते जा रहे हैं. मौसम की वजह से मची तबाही के कारण स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं. मौसम विभाग ने उत्तराखंंड में सोमवार को भारी बारिश की चेतावनी जारी की है.

भारी बारिश और बादल फटने से मोरी क्षेत्र में ग्रामीणों के मलबे में दबे होने की सूचना मिली है. ग्रामीणों को मलबे से निकालने के लिए एसडीआरएफ की टीम बड़कोट से रवाना हुई.

जानकारी अनुसार, सुदूरवर्ती क्षेत्र मोरी के गांव टिकोची, माकुड़ी और आराकोट में भारी बारिश के कारण सबसे अधिक लोग प्रभावित हो रहे हैं. इसके साथ-साथ माकुड़ी में लोगों के मलबे में दबे होने की खबर सामने आ रही है.

बड़कोट से एसडीआरएफ की  टीम आराकोट के इलाके में पहुंच चुकी है. रेस्क्यू टीम के मोरी इलाकों तक पहुंचने की सूचना है. रास्ता टूटने के कारण बचाव दल को प्रभावित गांव तक पहुंचने में कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है. इसके साथ-साथ मोरी में रेस्क्यू के लिए दो हेलिकॉप्टर भी लगाए गए हैं.

एसडीआरएफ की टीम ने आराकोट में राहत-बचाव अभियान शुरू कर दिया है. .यहां के एक घायल को सनेल से आराकोट हॉस्पिटल पहुंचाया गया. वहीं, करीब 170 ग्रामीणों को वन विश्राम गृह भेज दिया गया है. इसके साथ प्रभावित इलाके में आपदा राहत पैकेट एसडीआरएफ की ओर से भेजा जा रहा है.

AIIMS में अरुण जेटली की हालत बेहद नाजुक, वेंटिलेटर से हटाकर रखा गया ECMO सपोर्ट पर

First published: 19 August 2019, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी