Home » इंडिया » V.Hanumantha Rao carried away detained by Police for protesting over FIR lodged against him for misbehaviour with Police
 

जब धरने पर बैठे 'नेताजी' को टांग ले गर्इ पुलिस...

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 March 2017, 13:14 IST
Hanumantha Rao

हैदराबाद मेें धरना दे रहे कांग्रेस सचिव और पूर्व सांसद वी. हनुमंत राव के साथ एक दिलचस्प वाकया पेश आया है. उन पर पुलिस इंस्‍पेक्‍टर को गालियां देने का आरोप है. इस मामले में पुलिस ने राव पर केस दर्ज किया तो वह और भड़क गए. हनुमंत राव खुद पर केस दर्ज होने के विरोध में धरने पर बैठ गए. लेकिन पुलिस ने हनुमंत राव को हिरासत में ले लिया है.

हनुमंत राव धरने पर बैठ गए थे और वहां से उठने को तैयार नहीं थे. इसके बाद पूर्व सांसद को स्पेशल ट्रीटमेंट देते हुए दो पुलिस वालों ने उन्‍हें उठाया और गाड़ी में बिठा दिया. इस दौरान हनुमंत राव पुलिस को तानाशाह करते रहे, नारे लगाते रहे. लेकिन पुलिस ने उन्‍हें गाड़ी में बिठाकर थाने ले गई. नीचे देखिए वीडियो:

बता दें कि हनुमंत राव ने एक पुलिस इंस्पेक्टर को धमकी देने के साथ गालियां दी हैं. वाकया विधानसभा परिसर में उस समय हुआ जब राव मीडिया प्‍वॉइंट पर पत्रकारों से बात करना चाह रहे थे. बंदोबस्त ड्यूटी पर तैनात इंस्पेक्टर सुधाकर ने राव से कहा था कि सिर्फ एमएलए या एमएलसी को ही यहां मीडिया से बातचीत करने की इजाजत है.

जब पुलिस इंस्पेक्टर सुधाकर ने राव को मीडिया से बात करने से रोका तो उन्होंने अफसर को चेतावनी दी और रूल बुक दिखाने को कहा. पूर्व सांसद ने कहा, 'तुम लोगों ने धरना चौक को प्रदर्शनकारियों की पहुंच से बाहर कर दिया है और अब मुझको मीडिया प्‍वाइंट पर जाने से रोका जा रहा है. हम लोकतंत्र में रह रहे हैं या तानाशाही में? मुझे रोकने वाले तुम होते कौन हो? मैं अखिल भारतीय कांग्रेस समिति का सचिव हूं और मैं निश्चित तौर पर रिपोर्टरों से बात करूंगा.' दूसरी तरफ पुलिस अफसर का कहना है कि वह सिर्फ पूर्व सांसद को नियमों के बारे में सूचना दे रहा था और उन्हें रोक नहीं रहा था.

हनुमंत राव ने मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव की तरफ इशारा करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने पृथक तेलंगाना आंदोलन के दौरान इसी रैली स्थल का इस्तेमाल किया था. उन्होंने कहा, 'अब प्रदर्शनकारियों को इसकी इजाजत नहीं है. कल गन पार्क भी प्रदर्शनकारियों के लिए प्रतिबंधित हो जाएगा.' उन्होंने कहा कि जब मुख्यमंत्री अपने कैंप ऑफिस में बैठक करते हैं तो शहर में ट्रैफिक जाम हो जाता है, आम लोगों को प्रदर्शन करने से रोक दिया जाता है.

First published: 25 March 2017, 13:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी