Home » इंडिया » Varanasi: Crude bomb found inside court premises has been defused by the bomb squad
 

बनारस: कोर्ट परिसर में मिला जिंदा बम किया गया निष्क्रिय

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 April 2016, 15:22 IST

वाराणसी में फैमिली कोर्ट परिसर में जिंदा हैंड ग्रेनेड मिलने से हड़कंप मच गया. बताया जा रहा है कि कोर्ट कैंपस में एक कागज में लपेटकर हैंड ग्रेनेड को रखा गया था.

वहीं घटना का पता चलने के बाद पूरे इलाके में सघन तलाशी ली गई. बाद मेें मौके पर पहुंचे बम निरोधक दस्ते ने जिंदा बम को निष्क्रिय कर दिया. कचहरी के गेट नंबर एक पर एक वकील की कुर्सी के नीचे हैंड ग्रेनेड रखा था.

कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने बम निरोधक दस्ते को 12 हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा की. कमिश्नर ने कहा कि टीम की सतर्कता से एक बड़ा हादसा टल गया.

पढ़ें:अहमदाबाद-मुंबई जेट एयरवेज की फ्लाइट में बम की अफवाह

आज गृहमंत्री राजनाथ सिंह का दौरा

सुबह के वक्त जब पुलिस रूटीन चेकअप कर रही थी, इसी दौरान मेटल डिटेक्टर से बीप की आवाज आई, जिसके बाद मौके पर बम निरोधक दस्ते को बुलाया गया. इस दौरान पूरे इलाके को सील कर दिया गया.

वहीं कोर्ट परिसर में बम मिलने के बाद एहतियातन पुलिस ने पूरे शहर में तलाशी अभियान चलाया. काशी विश्वनाथ मंदिर और संकट मोचन मंदिर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. परिसर में बम होने की जानकारी जैसे-जैसे लोगों तक पहुंची अफराफतरी मच गई. 

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह आज ही वाराणसी के दौरे पर हैं.

varanasi 3

दो घंटे तक तलाशी अभियान


वहीं हैंड ग्रेनेड मिलते ही कचहरी परिसर को पूरी तरह से खाली करा दिया गया. सेंट्रल बार और बनारस बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने भी वकीलों से परिसर खाली करने की अपील की.

पढ़ें:दिल्ली: बम की अफवाह से स्कूल और एयरपोर्ट पर मची अफरातफरी

दो घंटे तक कोर्ट परिसर में तलाशी अभियान चलाया गया. इस बात की भी आशंका थी कि और हैंड ग्रेनेड हो सकते हैं. बम निरोधक दस्ते ने जब हैंड ग्रेनेड की जांच की तो पता चला कि उसमें फ्यूज नहीं है. 

कहां से आया हैंड ग्रेनेड ?


बम स्क्वायड के मुताबिक आग के संपर्क में आने से बम के फटने की पूरी आशंका थी. बम पर पड़े नंबरों के आधार पर जांच हो रही है कि आखिर ये बम फोर्स की किस यूनिट का है. 

varanasi

कचहरी परिसर में बम की सूचना के बाद जिला जज ने सभी अदालतों को तत्काल खाली करने के निर्देश दिए. साथ ही शनिवार को जिन मुकदमों की सुनवाई होनी थी उनमें अब सोमवार यानी 25 अप्रैल की तारीख दी गई है.

7 मार्च 2006 और 23 नवंबर 2007 को वाराणसी में बम धमाके हुए थे. 2006 में कैंट स्टेशन और संकट मोचन मंदिर के पास हुए ब्लास्ट में 30 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी. 2007 में वाराणसी सिविल कलेक्ट्रेट में भी ब्लास्ट हुआ था.

पढ़ें:मुलुंड बम धमाके: पोटा अदालत ने तीन दोषियों को सुनाई उम्रकैद की सजा

First published: 23 April 2016, 15:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी