Home » इंडिया » Vice President M Venkaiah Naidu blames foreign rule for lack of respect of women in India
 

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू बोले- देश में महिलाओं के प्रति सम्मान में कमी का जिम्मेदार विदेशी शासन

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 April 2018, 11:38 IST

हरियाणा के कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के 31 वें दीक्षांत समारोह में पहुंचे उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू में देश में महिलाओं के प्रति बढ़ते असम्मान की वजह विदेशी शासन को बताया. उन्होंने कहा कि भारत में हमेशा से महिलाओं को सम्मान मिलता आया है. लेकिन वर्तमान में महिलाओं के प्रति बढ़ते असम्मान की वजह देश में वर्षों तक रहा विदेशी शासन है.

दीक्षांत समारोह में बोलते हुए उन्होंंने कहा कि हमारे देश को भारत माता कहते हैं और बड़ी नदियों को महिलाओं का नाम देकर उनकी पूजा की जाती है. उन्होंने कहा कि यह शर्मनाक बात है कि ऐसी परंपरा होने के बावजूद महिलाओं को वह सम्मान नहीं दिया जा रहा है जिसकी वह हकदार हैं. उन्होंने कहा कि इसके लिए वर्षो तक देश में रहा विदेशी शासन जिम्मेदार है.

 

उपराष्ट्रपति ने युवाओं और छात्रों से हिंसा से दूर रहकर अनुशासित रहने और देश के विकास का नजरिया रखने की नसीहत दी. उन्होंने कहा कि हर मुद्दे का समाधान शांतिपूर्वक हो सकता है. इसके लिए सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाना गलत है. उन्होंने कहा कि हिंसा से समाधान नहीं हो सकता. विरोध प्रदर्शन शांतिपूर्ण होना चाहिए.

 

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में सभी समस्याओं पर सार्थक बहस होती है और रचनात्मक बहस से ही जवाब मिलता है. सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का किसी को कोई अधिकार नहीं है. शिक्षा और रोजगार के बीच कड़ी का जिक्र करते हुए उन्होंने छात्रों को नए अवसर प्राप्त करने के लिए जानकारी और कौशल हासिल करने को कहा.

पढ़ें- कठुआ गैंगरेप: दिल्ली फॉरेंसिक रिपोर्ट से हुआ ये बड़ा खुलासा

बता दें कि पिछले कुछ दिनों में देश में महिलाओं पर अत्याचार की खबरें बढ़ी हैं. उन्नाव और कठुआ गैंगरेप केस की वजह से सरकार की काफी आलोचना हो रही है. उपराष्ट्रपति ने हालांकि कठुआ और उन्नाव की गैंगरेप की घटना का सीधे जिक्र नहीं किया, मगर महिला सम्मान पर काफी बातें कहीं.

First published: 20 April 2018, 11:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी