Home » इंडिया » vijay mallya hikes bank settlement offer to rs 6-868 crore
 

विजय माल्या: बैंकों को 6,868 करोड़ से ज्यादा नहीं लौटा सकता

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 April 2016, 16:03 IST

देश छोड़ चुके कारोबारी और राज्यसभा सांसद विजय माल्या ने सुप्रीम कोर्ट के सामने नया प्रस्ताव रखा है. माल्या ने बैंकों को 6,868 करोड़ रुपये लौटाने की पेशकश की है.

माल्या ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि इससे ज्यादा की रकम लौटाना उनके लिए मुमकिन नहीं है. इससे पहले विजय माल्या ने बैंकों के कंसोर्टियम को 4,400 करोड़ रुपये बतौर कर्ज चुकाने का ऑफर दिया था.  

सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा

विजय माल्या पर एसबीआई समेत 17 बैंकों का करीब 9000 करोड़ रुपये कर्ज बकाया है. हालांकि माल्या ने भारत वापसी के बारे में कोई भी बयान नहीं दिया है. 

पढ़ें: विजय माल्या: एक घोषित दिवालिए को स्टेट बैंक देश छोड़ने से रोक पाएगा?

विजय माल्या ने शपथ पत्र में सुप्रीम कोर्ट से ये भी कहा कि उन्होंने किंगफिशर एयरलाइंस को फिर से चलाने की कोशिश की, लेकिन तेल की बढ़ती कीमत, ऊंची टैक्स दर और खराब एयरक्राफ्ट इंजन की वजह से ऐसा नहीं हो सका.

माल्या ने कहा कि इसकी वजह से उन्हें, उनके परिवार, यूबी ग्रुप और किंगफिशर फिनवेस्ट को 6,107 करोड़ रुपये का नुकसान झेलना पड़ा.

कर्ज के पैसे से संपत्ति नहीं खरीदी !

विजय माल्या ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल अपने हलफनामे में कहा है कि उनकी पत्नी और तीनों बच्चे सिद्धार्थ, लियाना और तान्या अमेरिकी नागरिक हैं. 1996 से ही उनकी पत्नी और तीनों बच्चे कैलिफोर्निया में रह रहे हैं.

माल्या ने हलफनामे में ये भी पूछा है कि उनका पासपोर्ट किस आधार पर और क्यों निलंबित किया गया.

पढ़ें: विजय माल्या का पासपोर्ट निलंबित

हलफनामे में माल्या ने कहा कि एनआरआई होने की वजह से उनसे विदेश में मौजूद संपत्ति की जानकारी नहीं मांगी जा सकती. माल्या ने ये भी कहा कि किंगफिशर एयरलाइंस को दिए गए कर्ज का इस्तेमाल विदेशों में संपत्ति खरीदने के लिए नहीं हुआ.

विजय माल्या ने सुप्रीम कोर्ट को बताया, "वो देश छोड़कर भागे नहीं हैं, लेकिन केंद्र सरकार के पासपोर्ट निलंबित करने के कदम से साफ है कि उनके खिलाफ बेवजह मामला चलाया गया है. जो मीडिया ट्रायल के कारण हुआ है."

First published: 22 April 2016, 16:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी