Home » इंडिया » Vijay Mallya is not a needle that he couldn't be caught: Azad
 

राज्यसभा में ''माल्या'' युद्ध

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:51 IST

शराब कारोबारी और राज्यसभा सांसद विजय माल्या के देश छोड़कर बाहर जाने के मुद्दे पर गुरुवार को राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ. राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने केंद्र सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि विजय माल्या कोई सुई नहीं है, जिन्हें पकड़ा नहीं जा सकता. वो एक किलोमीटर दूर से भी नजर आ सकते हैं.

इसके जवाब में वित्तमंत्री और सदन के नेता अरुण जेटली ने कहा कि इस मामले की जांच सीबीआई कर रही है. उन पर नौ हजार करोड़ का कर्ज बकाया था. उन्हें यूपीए सरकार के समय लोन मिले. उनके खातों की तारीख बताती है कि उनके मददगार कौन थे?

पढ़ें: माल्या गए नहीं, भाग भी गए तो भारत क्या कर लेगा?

इस पर आजाद ने कहा कि यूपीए सरकार ने कभी भी विजय माल्या के लिए लोन की सिफारिश नहीं की. उन्होंने कहा कि इस केस में केंद्र को भी पार्टी बनाया जाए. उन्हें भगाने में मदद करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए.

कांग्रेस सांसद जयराम रमेश ने इस बहस में हिस्सा लेते हुए कहा कि सवाल ये नहीं है कि माल्या को लोन किसने दिया, सवाल ये है कि माल्या देश छोड़कर कैसे चले गए. माल्या को देश छोड़ने की इजाजत क्यों दी गई?

पढ़ें: भारत छोड़कर जा चुके हैं विजय माल्या!

केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूड़ी ने कहा, 'विजय माल्या हमारे लिए संत नहीं हैं. क्या हमने उन्हें एक भी पैसा दिया, उन्हें पैसा यूपीए सरकार में दिया गया.'

बीजेपी सांसद किरीट सोमैया भी गुरुवार को शून्यकाल के दौरान लोकसभा में माल्या के मुद्दे को उठाएंगे.

गौरतलब है कि भारतीय बैंकों के हजारों करोड़ रुपये के कर्जदार राज्यसभा सांसद और प्रवासी भारतीय विजय माल्या देश से बाहर जा चुके हैं. बुधवार को भारत सरकार के अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट को ये जानकारी दी थी.

First published: 10 March 2016, 12:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी