Home » इंडिया » Vikram lander found on lunar surface ISRO Says we are trying to have contact
 

Chandrayaan 2: लैंडर विक्रम का चला पता, लेकिन अभी तक नहीं हुआ संपर्क, इसरो की कोशिश जारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 September 2019, 15:29 IST

चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग से कुछ पल पहले इसरो से संपर्क तोड़ चुका लैंडर विक्रम का पता चल गया है. ऑर्बिटर ने लैंडर विक्रम की लोकेशन का चंद्रमा की सतह पर पता लगा लिया है. इसरो प्रमुख के सिवन ने कहा, ''हमें लूनर सतह पर विक्रम लैंडर की लोकेशन का पता चला है, ऑर्बिटर ने लैंडर की थर्मल तस्वीर भेजी है लेकिन अभी किसी भी तरह का संपर्क नहीं हुआ है. हम संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं, जल्द ही संचार स्थापित होगा.'' गौरतलब है कि शनिवार को तड़के चंद्रयान 2 मिशन के दौरान आखिरी वक्त में लैंडर विक्रम से इसरो का संपर्क टूट गया था.

इससे पहले शनिवार को इसरो प्रमुख ने एक इंटरव्यू में कहा था कि अगले 14 दिनों तक लैंडर विक्रम से संपर्क की कोशिश जारी रहेगी. इसरो प्रमुख ने कहा, ''एजेंसी अगले 14 दिनों तक लैंडर विक्रम से संपर्क साधने की कोशिश जारी रहेगी. उन्होंने बताया कि मिशन अपनी सौ फीसदी सफलता के बेहद नजदीक था. के सिवन ने बताया कि, ''आखिरी चरण सही तरह से नहीं हो पाया, उस फेज में हमारा लैंडर से संपर्क टूट गया और बाद संचार स्थापित नहीं हो सका. फिलहाल संचार टूट गया है. हम अगले 14 दिनों तक संपर्क साधने का प्रयास करेंगे.''

बता दें कि इसरो प्रमुख ने चंद्रयान 2 मिशन को 95 प्रतिशत सफल बताया था. उन्होंने कहा था कि ऑर्बिटर पूरी तरह ठीक है और उसमें 7.5 साल तक काम करने की क्षमता है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि गगनयान सहित इसरो के सभी मिशन निर्धारित समय पर पूरे होंगे. बता दें कि लैंडर ‘विक्रम’ अगर ऐतिहासिक लैंडिंग में सफल हो जाता तो भारत चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करा चुके अमेरिका, रूस और चीन जैसे देशों की कतार में शामिल हो जाता.

पीएम मोदी और शाह ने वरिष्ठ वकील जेठमलानी को दी श्रद्धांजलि

First published: 8 September 2019, 15:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी