Home » इंडिया » Vivek Tiwari Murder Case: CM Yogi angry over UP police rebellion attitude suspend 3 policemen
 

UP पुलिस के 'बगावती' रुख से गुस्साए CM योगी, तीन पुलिसकर्मियों को कर दिया सस्पेंड

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 October 2018, 10:55 IST

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हुए विवेक तिवारी मर्डर केस में आरोपी पुलिसकर्मी की गिरफ्तारी और बर्खास्तगी के विरोध में यूपी पुलिस द्वारा 5 अक्टूबर को काला दिवस मनाए जाने से CM योगी काफी नाराज हैं. उन्होंने पुलिस के आला अफसरों को जमकर फटकार भी लगाई है. पुलिसकर्मियों के 'बगावती' रुख से सीएम योगी इतने नाराज हुए कि उन्होंने तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड भी कर दिया है.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने तीन थाना अध्यक्षों के तबादले भी कर दिए. इसके अलावा विरोध करने वाले दो पूर्व पुलिसकर्मियों को भी गिरफ्तार किया गया है. वहीं यूपी पुलिस के लिए नई सोशल मीडिया पॉलिसी भी जारी की गई है. 

पढ़ें- IRCTC घोटाला: राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव को मिली बेल, अगली तारीख पर वीडियो कांफ्रेंस के जरिए पेश होंगे लालू यादव

सीएम योगी ने बगावती सुर वाली घटना के सामने आने के फौरन बाद प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार, डीजीपी ओपी सिंह और मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडे को बुलाकर अपना गुस्सा जाहिर किया. आला अफसरों को इस मामले को लेकर खरी खोटी सुनाते हुए उन्होंने कहा कि यह उच्च स्तर पर की गई लापरवाही का नतीजा है.

सीएम योगी ने कहा कि उच्च स्तर पर की गई लापरवाही की वजह से पुलिसकर्मी इतना मुखर होकर के विरोध पर उतर आए हैं. अगर इस पर फौरन लगाम नहीं लगाई गई तो इसका खामियाजा अधिकारियों को भी भुगतना होगा. सीएम योगी की इस नाराजगी की वजह से आनन-फानन में पुलिस विभाग की तरफ से पुलिसकर्मियों के लिए नई सोशल मीडिया पॉलिसी लागू कर दी गई है. 

पढ़ें- मोदी की मंजूरी के बावजूद रूस के साथ अभी एस-400 डील टालने के पक्ष में थे NSA डोभाल ?

सोशल मीडिया की नई पॉलिसी के तहत पुलिसकर्मी अब सोशल मीडिया पर पुलिस का लोगो, पुलिस की वर्दी, उससे जुड़ी अन्य चीजें और हथियार के साथ फोटो पोस्ट नहीं शेयर कर सकते. अगर कोई पुलिसकर्मी वर्दी के साथ फोटो पोस्ट करता भी है तो किसी तरीके की अव्यवस्था नहीं होनी चाहिए.

इसके अलावा कोई आपत्तिजनक टिप्पणी नहीं कर सकता. पुलिसकर्मियों को सोशल मीडिया पर कोई टिप्पणी करने के साथ यह भी लिखना होगा यह उनकी निजी राय है. वह अपने अधिकारियों के खिलाफ कोई भी टिप्पणी सोशल मीडिया पर नहीं कर सकता. वहीं सरकार या उसकी नीतियों, कार्यक्रमों और राजनेताओं के संबंध में कोई टिप्पणी नहीं कर सकता.

First published: 6 October 2018, 10:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी