Home » इंडिया » Vizag Gas Leak: Factory opened after lockdown relaxed, terrible accident happened in order to restart
 

विजाग गैस लीक: लॉकडाउन में ढील के बाद खुली थी फैक्ट्री, रिस्टार्ट करने के क्रम में हो गया भयानक हादसा

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 May 2020, 14:10 IST

Vizag Gas Leak: आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में गुरुवार तड़के एक पॉलिमर फैक्ट्री में गैस रिसाव हो गया. इस भयानक घटना में अबतक आठ लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं सैकड़ों लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. घटना की भयावहता यह है कि अभी भी लोगों को दरवाजे तोड़-तोड़ उनके घरों से निकालकर अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है.

जब गुरुवार को ढाई बजे रात के आस-पास गैस मं रिसाव शुरू हुआ तो आस-पास के गांवों के लोग अपने घरों में सो रहे थे. इस दौरान किसी को पता नहीं चला और गैस रिसाव होने लगा. जब तक लोगों को घटना के बारे में पता चला तब तक गैस पूरे इलाके में फैल चुकी थी. चार-पांच किलोमीटर के इलाके में पेड़-पौधे झुलस गए. कई जानवर तड़प-तड़पकर मर गए. 

लॉकडाउन में छूट के बाद शुरू हुई थी फैक्ट्री

ये फैक्ट्री लॉकडाउन 3.0 में मिली छूट के तहत दोबारा शुरू हुई थी. फैक्ट्री में 33 फीसदी स्टाफ के साथ काम शुरू होना था. जब फैक्ट्री को रिस्टार्ट किया जाना था तभी ये खौफनाक हादसा हुआ.  आरआर वेंकटपुरम स्थित इस विशाखा एलजी पॉलिमर फैक्ट्री में हुई गैस लीक के बारे में जानकारी देते हुए NDRF के डीजी ने बताया कि फैक्ट्री से स्टाइरीन गैस लीक हुई.

NDRF के डीजी ने बताया कि लॉकडाउन के बाद खुलने वाली इस फैक्ट्री को रिस्टार्ट करने के क्रम में स्टाइरीन गैस  लीकेज की समस्या सामने आई. तड़के करीब ढाई बजे लीकेज की घटना हुई, इसके बाद प्रशासन वहां पहुंचा. एक घंटे के भीतर ही NDRF की टीम भी वहां पहुंच गई. उन्होंने बताया कि अब तक आस-पास के गांवों से 2000 से अधिक लोगों को निकाला जा चुका है.

गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते केंद्र सरकार ने लॉकडाउन को बढ़ाकर 17 मई तक कर दिया था. हालांकि 3 मई को लॉकडाउन 2.0 खत्म होने के साथ ही देश के सभी जिलों को अलग-अलग जोन में बांटकर कुछ छूट दी गई और कई जगह कंपनियों और फैक्ट्रियों में काम करने की छूट दी गई.

चूंकि विशाखापट्टनम ऑरेंज जोन में है, इसलिए यहां फैक्ट्रियों में 33 फीसदी स्टाफ के साथ काम करने की इजाजत मिल गई थी. डीजी ने बताया कि सुबह दस बजे तक फैक्ट्री से गैस का रिसाव खत्म हो गया था, हालांकि अभी तक गांवों में लोगों को सांस लेने में तकलीफ हो रही है. लोगों को आंखों में जलन की शिकायतें अभी भी आ रही हैं. हादसे में अबतक 8 इंसानों और दर्जनों जानवरों की मौत हो चुकी है.

बुद्ध पूर्णिमा 2020: बुद्ध की दिखाई राह पर चलकर इस संकट से बाहर निकल सकते हैं- PM मोदी

चीन के वुहान की लैब में ही बना था कोरोना वायरस, हमारे पास इसके पर्याप्त सबूत हैं: अमेरिका

कोरोना वायरसः दुनियाभर में दो लाख 65 हजार से ज्यादा लोगों की मौत, 38 लाख से अधिक संक्रमित

First published: 7 May 2020, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी