Home » इंडिया » VK singh can return today with the dead bodies of 38 indians killed in iraq
 

इराक में मारे गए 38 भारतीयों के शव आज वतन वापस ला सकते हैं वी के सिंह

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 April 2018, 9:07 IST

विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह आज रात तक मोसूल में मारे गए भारतीय नागरिकों के शव लेकर देश वापस पहुंच सकते हैं. सिंह ने रवाना होने से पहले कहा कि साल 2014 में मोसुल पर कब्जा करने के बाद 39 भारतीयों की हत्या कर दी गई थी. एक मृतक की शिनाख्त नहीं हो पाने के कारण 38 भारतीय नागरिकों के शव भारत लाए जाएंगे.

सबसे पहले जायेंगे पंजाब

वीके सिंह शवों को लेकर सबसे पहले अमृतसर और पटना जाकर मृतकों के परिजनों को शव सौंपेंगे. मारे गए 39 लोगों में 27 पंजाब से और चार बिहार से थे. पंजाब के 27 और हिमाचल के चार लोगों के पार्थिव अवशेष अमृतसर में उतारे जाएंगे. अमृतसर के बाद सम्बंधित राज्यों के पार्थिव अवशेष शाम 6 बजे कोलकाता और 8 बजे पटना पहुंचेंगे.

सरकार का कहना है कि पीड़ित परिवारों को एयरपोर्ट आने की ज़रूरत नहीं है, अपनों के पार्थिव अवशेष उनके घरों तक पहुंचाए जाएंगे. वीके सिंह ने बताया कि परिजनों को किसी प्रकार का शक न हो, इसलिए शव सौंपते समय उन्हें सबूत भी उपलब्ध कराए जायेंगे.

ये भी पढ़ें- गाजा सीमा विवाद: 16 फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों की मौत, प्रतिनिधि करेंगे आपात बैठक

वी के सिंह ने दी सलामी

भारतीय नागरिकों के शव वतन वापसी के लिए जब विमान पर चढ़ाये गए तो भारत के विदेश राज्य मंत्री वी के. सिंह ने उन्हें सलामी दी. इस दौरान सिंह ने आतंकवादियों की आलोचना की और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अपनी सरकार के रुख को जाहिर किया.

 

उन्होंने आईएसआईए 'बेहद क्रूर संगठन' बताते हुए कहा कि हमारे देश के नागरिक आईएस की गोलियों के शिकार हुए हैं. हम लोग हर तरह के आतंकवाद के खिलाफ हैं.'

गौरतलब है कि मारे गए कुछ लोगों के परिवारों ने 26 मार्च को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात की थी. इस महीने, विदेश मंत्री ने संसद को बताया था कि आतंकी समूह आईएसआईएस ने जून 2014 में इराक के मोसूल से 40 भारतीयों का अपहरण कर लिया था लेकिन उनमें से एक खुद को बांग्लादेश का मुस्लिम बताकर भाग निकला था. उन्होंने कहा था कि बाकी 39 भारतीयों को बदूश ले जाया गया और उनकी हत्या कर दी गई.

ये भी पढ़ें- चीन ने की घुसपैठ की हदें पार, अरुणाचल में बनाए PLA कैंप, पोस्ट और टावर

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने 20 मार्च को संसद को सूचित किया था कि इराक में मजदूरी का काम कर रहे जिन 39 भारतीयों का 2014 में मोसुल से अपहरण हो गया था, उनकी हत्या हो गई है. इससे पहले इराक से बच निकले हरजीत मसीह ने दावा किया था कि आईएस ने 39 भारतीयों की गोली मारकर हत्या कर दी है. इसके जबाव में विदेश मंत्री ने कहा था कि जब तक इस संबंध में कोई ठोस सबूत नहीं मिल जाता, वे किसी की मृत्यु की पुष्टि नहीं कर सकतीं.

First published: 2 April 2018, 9:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी