Home » इंडिया » West Bengal BJP president Dilip Ghosh get angry from Modi Cabinet
 

पश्चिम बंगाल में BJP को बंपर जीत दिलाने वाले दिलीप घोष को नहीं मिला मंत्री पद, दिखाया अपना गुस्सा

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 June 2019, 14:18 IST

लोकसभा चुनाव 2019 में भारतीय जनता पार्टी में आश्चर्यजनक परिणाम लाते हुए 18 सीटें हासिल की थी. इस आश्चर्यजनक परिणाम में पश्चिम बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष का बड़ा योगदान था. लेकिन उन्हें मोदी कैबिनेट में कोई मंत्रालय नहीं दिया गया. अब खबर आ रही है कि वह पार्टी से नाराज हो गए हैं.

द टेलिग्राफ की खबर के अनुसार, दिलीप घोष ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि उनकी संगठन महासचिव रामलाल से बात हुई थी. उन्होंने मंत्री पद को लेकर उनकी आकांक्षाओं से अवगत कराया था.

दिलीप घोष ने उनसे कहा था कि जब बंगाल से दो सांसद थे तो दोनों को मंत्री पद मिला था. अब जबकि बंगाल से 18 सांसद हैं तो कम से कम 5 से 6 मंत्री बनाए जाने चाहिए. लेकिन सिर्फ दो लोगों को मंत्री बनाया गया. बाबुल सुप्रियो और देवश्री मुखर्जी को ही मोदी सरकार में मंत्री बनाया गया है. यहां तक कि दोनों ने राज्यमंत्री के तौर पर शपथ ली.

हालांकि दिलीप घोष को ये उम्मीद थी कि 18 सीटें जीतने के बाद बंगाल को मोदी सरकार के कैबिनेट खास तरजीह मिलेगी. लेकिन मोदी सरकार में मात्र दो मंत्रियों को शामिल किया गया. पार्टी और सरकार के इस फैसले से बंगाल बीजेपी चीफ ने खुलकर असंतोष जाहिर किया. दिलीप घोष ने कहा कि उन्हें 5 से 6 मंत्रियों की उम्मीद थी. वह महज 2 मंत्रियों से संतुष्ट नहीं हैं.

कांग्रेस संसदीय दल की नेता चुनी गईं सोनिया गांधी, लोकसभा में चुनेंगी पार्टी का नेता

PM मोदी ने सरकार बनाते ही दिया तोहफा, शहीद जवानों के बच्चों की बढ़ाई स्कॉलरशिप

First published: 1 June 2019, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी