Home » इंडिया » West Bengal BJP president openly threatens TMC workers will be broken hands and feet
 

पश्चिम बंगाल BJP अध्यक्ष ने सरेआम दी धमकी- नहीं संभले TMC कार्यकर्ता तो तोड़ दिए जाएंगे हाथ-पैर

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 November 2020, 9:54 IST

West Bengal: पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं, लेकिन इससे पहले ही राज्य की राजनीति गरमाई हुई है. चुनाव से पहले बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ता एक-दूसरे से लगातार भिड़ते नजर आ रहे हैं. इसी क्रम में पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष ने टीएमसी कार्यकर्ताओं को सरेआम धमकी दी है.

पश्चिम बंगाल (West Bengal) बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष (Dilip Ghosh) ने रविवार को एक जनसभा को संबोधित करते हुए तृणमूल कांग्रेस (TMC) के कार्यकर्ताओं को चेतावनी दी. उन्होंने कहा कि वे अगर नहीं बदले तो उनके हाथ-पैर तोड़ दिए जाएंगे और अस्पताल पहुंचा दिया जाएगा. दिलीप घोष सिर्फ यहीं नहीं रुके उन्होंने यहां तक कह दिया कि टीएमसी कार्यकर्ताओं को श्मशान घाट जाना पड़ेगा.

अपने संबोधन के दौरान दिलीप घोष ने किहा कि उनकी पार्टी यदि राज्य की सत्ता में आती है तो पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र को बहाल करेगी. दिलीप घोष पूर्व मिदनापुर जिले के हल्दिया में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने मंच पर से माइक पर खुलेआम ये धमकियां दीं. उन्होंने कहा कि  केंद्र सरकार राज्य में निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करेगी.

भारत-चीन विवाद: 8वें दौर की बैठक रही बेनतीजा, 6 नवंबर को हुई थी कमांडर लेवल की बातचीत

दिलीप घोष ने जनसभा में आए लोगों से बताया कि राज्य के विधानसभा चुनाव में केंद्रीय बलों की निगरानी रहेगी. उन्होंने कहा कि तृणमूल कार्यकर्ता आम लोगों को परेशान करते हैं. अगर वह अगले छह महीने में नहीं सुधरे तो उन्हें अस्पताल जाना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि तृणमूल कार्यकर्ताओं के हाथ-पैर, पसली और सिर तोड़ दिए जाएंगे.

दिलीप घोष ने इस दौरान पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी पर भी जमकर निशाना साधा. दिलीप घोष ने ममता बनर्जी को 'साड़ी पहनी हुई हिटलर' तक कह डाला. दिलीप घोष ने टीएमसी कार्यकर्ताओं को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर उनकी शरारत बढ़ती हैं तो उन्‍हें श्‍मशान भेज दिया जाएगा.

दिलीप घोष ने कहा कि भाजपा धार्मिक आधार पर भेदभाव नहीं करती. उन्होंने कहा कि मुस्लिम समुदाय के लोगों को भी वह आश्वस्त करते हैं कि पीएम मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार के अधीन उन्हें समान अधिकार प्राप्त हैं. केवल बीजेपी ही इस विचारधारा को मानती है. 

लालकृष्ण आडवाणी को जन्मदिन की बधाई देने उनके घर पहुंचे PM मोदी, बताया- देशवासियों का प्रेरणास्रोत

Video: शिवराज सरकार के खिलाफ यात्रा निकालने वाले कंप्यूटर बाबा को हुई जेल, आश्रम हुआ धराशायी

First published: 9 November 2020, 9:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी