Home » इंडिया » West Bengal: In the book of primary school skinned told ugly, parents angry on racism
 

पश्चिम बंगाल की किताब में अश्वेत को बताया गया कुरूप, नस्लभेद की शिक्षा पर भड़के अभिभावक

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2020, 14:13 IST

West Bengal: पश्चिम बंगाल में प्राइमरी की एक किताब में नस्लभेद की शिक्षा दिए जाने पर बवाल मच गया है. पश्चिम बंगाल के बर्दमान जिले में एक प्राइमरी स्कूल के टेक्स्ट बुक में नस्लभेदी उदाहरण दिया गया है. इसके बाद अभिभावकों ने इस पर कड़ी आपत्ति जताई है. बर्दमान के गर्ल्स स्कूल में प्री-प्राइमरी लेवल की किताब में अश्वेत को कुरुप बताया गया है.

इसमें अल्फाबेट के चैप्टर में U की पहचान के लिए एक तस्वीर बनाई गई है. जिसमें एक अश्वेत व्यक्ति को दिखाया गया है. इसके साथ लिखा गया है U फॉर Ugly यानी कुरुप. इस बार अभिभावकों ने इस पर कड़ी आपत्ति जताई है. 

इंडिया टुडे से बात करते हुए कोलकाता के बंगबासी कॉलेज में टीचर सुदीर मजूमदार ने बताया कि उनकी बेटी बर्दमान के म्यूनिसिपल गर्ल्स हाईस्कूल में पढ़ती है. जब वह घर में अपनी बेटी को अल्फाबेट पढ़ा रहे थे, तो उनकी नजर U अल्फालेट के लिए बने तस्वीर पर गई. उन्होंने बताया कि इसमें नस्लभेद से जुड़ी गलत शिक्षा दी जा रही है. उन्होंने कहा कि अश्वेतों को बदसूरत कहना बच्चों को गलत शिक्षा देना है. 

आईसीसी कार्यक्रम में बोले पीएम- LED से हर साल बच रहे हैं 19 हजार करोड़

इस मुद्दे पर प्राइमरी शिक्षा देख रहे जिला इंस्पेक्टर स्वपन कुमार दत्त ने कहा कि ऐसी शिक्षा बच्चों को नहीं दी जानी चाहिए और यह गलत है. उन्होंने कहा कि ऐसी किताब स्कूल की ओर से दी जाने वाली आधिकारिक किताब नहीं है. उन्होंने कहा कि इसके बाद भी इस बारे में स्कूल प्रिंसिपल से बात किया जाएगा और जरूरत पड़ी तो किताब को बदलवाया जाएगा.

बता दें कि अमेरिका में नस्लभेद (Racism) के खिलाफ इन दिनों एक बड़ा आंदोलन चल रहा है. यह आंदोलन एक अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद चल रहा है. इस आंदोलन ने दुनियाभर में अपनी छाप छोड़ी है.

कोरोना वायरस: भारत में 52 लाख से ज्यादा लोगों की हुई कोविड-19 जांच, जानिए किस देश ने कितने किए टेस्ट

कोरोना वायरस: इस प्रसिद्ध मंदिर का पुजारी निकला कोरोना पॉजिटिव, मचा हड़कंप, 23 लोग क्वारंटीन

First published: 11 June 2020, 14:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी