Home » इंडिया » West Bengal wins GI registration for Rosogolla Mamata Banerjee tweet
 

रसगुल्ले ने जीती कानूनी जंग, ममता बनर्जी ने कहा 'आर्इ मीठी खबर'

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 November 2017, 17:15 IST

रसगुल्ले के लिए लंबे समय से चल रही लड़ाई में पश्चिम बंगाल की जीत हो गई है. खुद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है. ममता ने ट्विटर पर लिखा है कि हम सभी के लिए एक मीठी खबर है.

मंगलवार को पश्चिम बंगाल सरकार को रसगुल्ले के लिए जियोग्राफिकल इंडिकेशन (जीआई) टैग मिल गया है. जीआई टैग मिलने से पश्चिम बंगाल में रसगुल्ला बनाने वालों को फायदा मिलने की उम्मीद है. रसगुल्ले को सीएम ममता बनर्जी विश्व स्तर पर राज्य की पहचान के रुप में पेश करना चाहती हैं.

रसगुल्ले को जीआई टैग मिलने पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्विटर पर लिखा है कि हम सभी के लिए एक मीठी खबर है. पश्चिम बंगाल को रसगुल्ले के लिए जीआई टैग मिलने पर हम सब बेहद खुश और गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं. 1868 में पश्चिम बंगाल में बना था पहला रसगुल्ला. दरअसल पश्चिम बंगाल और ओडिशा के बीच रसगुल्ले को लेकर काफी समय से बहस चल रही थी.

सवाल यह था कि रसगुल्ले का ईजाद कहां हुआ. पश्चिम बंगाल के मंत्री का कहना था कि सरकार भी ऐतिहासिक तथ्यों का ही आधार ले रही है. उनका मानना है कि रसगुल्ले का ईजाद पहली बार बंगाल में हुआ. बंगाल के विख्यात मिठाई निर्माता नबीन चंद्र दास ने 1868 में पहले-पहल रसगुल्ला बनाया था. इसीलिए हम ओडिशा को रसगुल्ले को बनाने का क्रेडिट लेने नहीं देंगे. इसलिए हमने फैसला किया है कि हम इस मामले को अब कोर्ट तक लेकर जाएंगे. अब इस मसले पर कोर्ट ही कुछ फैसला देगी.

First published: 14 November 2017, 17:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी