Home » इंडिया » WhatsApp can be closed in India now the reason
 

WhatsApp यूजर्स के लिए बुरी खबर, भारत में बंद हो सकती है ये मैसेजिग ऐप

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2019, 16:31 IST

भारत के WhatsApp यूजर्स के लिए जल्द ही निराश करने वाली खबर आ सकती है. भारत सरकार जल्द ही इसे बंद कराने का ऐलान कर सकती है. भारत सरकार और WhatsApp कंपनी के बीच काफी लंबे समय से खींचातानी चल रही है. अब इस खींचातानी पर विराम चिह्न लगाने की तैयारी सरकार द्वार की जा रही है.

पढ़ें ये भी- नोएडा के मेट्रो हॉस्पिटल में लगी भयानक आग, नहीं की गई आपात निकासी व्यवस्था

सरकार ने WhatsApp के सामने कुछ शर्तें रखी हैं. अगर सरकार की शर्तें WhatsApp ने नहीं मानी तो भारत में WhatsApp बंद हो सकता है. चलिए जानते हैं क्या है सरकार की शर्तें-

भारत सरकार ने WhatsApp के सामने कई शर्तें रखी हैं, जिसमें सबसे प्रमुख शर्त ये है कि कंपनी WhatsApp मैसेज के बारे में सरकार को जानकारी दे कि कौन-सा मैसेज कहां से वायरल हो रहा है और उसे सबसे पहले किसने भेजा है, लेकिन WhatsApp इसके लिए राजी नहीं है.

पढ़ें ये भी- ब्रिटिशकाल से चली आ रही इस परंपरा पर लगी रोक, कोर्ट में अब नहीं सुनाई देगा ये शब्द

इस बारे में WhatsAp का कहना है कि वे डिफॉल्ट रूप से एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन तकनीक का इस्तेमाल करता है. ऐसे में वे भी मैसेज को पढ़ नहीं सकते, क्योंकि एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन का मतलब है कि मैसेज, भेजने वाले और प्राप्त करने वाले के बीच ही रहता है.

ANI एजेंसी से बात करते हुए WhatsApp के कम्युनिकेशन प्रमुख कार्ल वूग ने कहा, "सरकार के प्रस्तावित नियमों में से जो सबसे ज्यादा चिंता का विषय मैसेजेज का पता लगाने पर जोर देने वाला नियम है. उन्होंने आगे कहा कि इस फीचर के बिना Whatsapp किसी काम का नहीं रह जाएगा और इसकी निजता खत्म हो जाएगी."

पढ़ें ये भी- गौरी लंकेश हत्याकांड: चलने के ढंग से एसआईटी की गिरफ्त में फंसा आरोपी


एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन होने के कारण सरकार को ये पता लगाना मुश्किल होगा कि फेक न्यूज कहां से फैल रही है और ना ही मैसेज फैसाने वालों का पता लग सकता है. इस बारे में सरकार का कहना है कि WhatsApp ऐप के दुरुपयोग और हिंसा फैलाने से रोकने के लिए एक नियम का पालन करना ही होगा. वहीं, इस बारे में WhatsApp का कहना है कि लोकसभा चुनाव से पहले राजनीतिक पार्टियां WhatsApp का दुरुपयोग कर रहीं हैं.

First published: 7 February 2019, 16:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी