Home » इंडिया » when pitra paksha 2020 will start
 

Pitra Paksha 2020: इस साल कब से शुरू हो रहे पितृपक्ष, जानिए तर्पण की विधि और नियम

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 August 2020, 11:59 IST

Pitra Paksha 2020: भाद्र कृष्ण प्रतिपदा तिथि से हर साल पितृ पक्ष का आरंभ होता है. इस साल भी पितरों की पूजा का पक्ष जिसे श्राद्ध पक्ष भी कहते हैं वो 2 सितंबर से शुरू होने जा रहा है. लेकिन पितृ पक्ष का पहला श्राद्ध अगस्त मुनि को होता है जो भाद्र शुक्ल पूर्णिमा को लगता है. इस बार भाद्र पूर्णिमा 1 सितंबर को है इसलिए अगस्त मुनि के नाम से इस दिन पूजन किया जाएगा. प्रतिपदा का पहला पितृ श्राद्ध 1 सितंबर को होगा.

हिन्दू पंचांग के मुताबिक भाद्रपद मास की पूर्णिमा तिथि से लेकर अश्विन मास की अमावस्या तक पितृ तर्पण किया जाता है. मान्यता है कि जो व्यक्ति इन सोलह दिनों में अपने पितरों की मृत्यु तिथि के मुताबिक तर्पण करता है. उसे पितरों का आशीर्वाद मिलता है. ऐसे व्यक्ति से उसके पितृ खुश होकर उसके जीवन में चल रही सभी मुश्किलों को दूर कर देते हैं.


पितृ तर्पण विधि-
जिस तिथि को आपके पितृ देव का श्राद्ध हो, उस दिन बिना साबुन लगाए स्नान करें. फिर बिना प्याज-लहसुन डाले और अपने पितृ देव का पसंदीदा भोजन या आलू, पुड़ी और हलवा बनाकर एक थाल में रखें. पानी भी रखें. इसके बाद हाथ में पानी लेकर तीन बार उस थाली पर घूमाएं. पितरों का ध्यान कर उन्हें प्रणाम करें. साथ में दक्षिणा रखतर किसी श्रेष्ठ ब्राह्मण को दान करें. इस दिन तेल लगाना, नाखुन काटना, बाल कटवाना और मांस-मदिरा का सेवन करना मना होता है.

सप्ताह के इस दिन कटवाएं बाल, दूर भाग जाएंगी पैसों की किल्लत

 

भूलकर भी नहीं करने चाहिए ये काम-
मान्यता है कि जो लोग अपने पूर्वजों का श्राद्ध या तर्पण करते हों उन्हें पितृ पक्ष में 15 दिन तक अपने बाल नहीं कटवाने चाहिए. माना जाता है कि ऐसा करने से पूर्वज नाराज हो सकते हैं.

इसी के साथ ये भी कहा जाता है कि पितृ पक्ष में पूर्वज किसी भी वेष में अपना भाग लेने आ सकते हैं. इसलिए दरवाजे पर कोई भिखारी आए तो इसे खाली हाथ नहीं लौटाना चाहिए. इन दिनों किया गया दान पूर्वजों को तृप्ति देता है.

पिृत पक्ष में पीतल या तांबे बर्तन में ही पूजा, तर्पण आदि लिए इस्तेमाल करना चाहिए. लोहे के बर्तनों की मनाही है. लोहे के बर्तनों को अशुभ माना जाता है. कहा जाता है कि पितृ पक्ष के दिन भारी होते हैं ऐसे में कोई नया काम या नया समान नहीं खरीदना चाहिए. जैसे कपड़े, वाहन, मकान आदि.

शिव पुराण में लिखा है धनवान बनने का ये सरल उपाय, 11 सोमवार को नियमित तौर पर बस करें ये काम

First published: 31 August 2020, 11:59 IST
 
अगली कहानी