Home » इंडिया » Which Gandhi has the most power? Surprise, surprise... it's Priyanka!
 

गांधी परिवार में सबसे 'पॉवरफुल' कौन? प्रियंका गांधी

राजीव खन्ना | Updated on: 12 May 2016, 19:23 IST

गांधी परिवार में सोनिया, राहुल और प्रियंका गांधी में से सबसे पावरफुल कौन? जवाब है- प्रियंका गांधी. जी हां, यदि पावरफुल होने का पैमाना पॉवर (बिजली) की खपत को माना जाय तो 35, लोधी एस्टेट स्थित प्रियंका गांधी का घर सबसे अधिक पॉवरफुल है.

नई दिल्ली नगर परिषद् (एनएमडीसी) द्वारा आरटीआई कार्यकर्ता देवाशीष भट्टाचार्य को उपलब्ध कराए गए तथ्य तो कुछ ऐसी ही कहानी कह रहे हैं. आंकड़े बताते हैं कि प्रियंका के घर की बिजली की खपत मां सोनिया और भाई राहुल दोनों के घरों की कुल खपत से भी कहीं ज्यादा है.

आरटीआई से मिली जानकारी के मुताबिक सोनिया के 10 जनपथ आवास और राहुल गांधी के 12 तुग़लक लेन स्थित आवास पर स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) होने के बावजूद अलग से कोई बिजली मीटर नहीं लगे हैं, वहीं विशेष सुरक्षा ग्रुप (इलीट प्रोटेक्शन ग्रुप) में शामिल प्रियंका के घर पर न सिर्फ अलग से बिजली मीटर हैं, बल्कि पानी का मीटर भी अलग से लगा है.

प्रियंका के घर की बिजली की खपत मां सोनिया और भाई राहुल दोनों के घरों की कुल खपत से भी कहीं ज्यादा है

भट्टाचार्य को मिली जानकारी के अनुसार सोनिया के आवास 10 जनपथ के लिए अप्रैल 2013 से दिसंबर 2015 तक कुल 12,72,018 रुपए के बिजली बिल का भुगतान किया गया. वहीं राहुल गांधी के आवास 12, तुग़लक लेन के लिए इसी अवधि के दौरान 4,14,468.42 रुपए का बिजली बिल भरा गया. इस तरह इन दोनों सांसदों के घरों का संयुक्त बिजली बिल 16,86,486.42 रुपए रहा.

लेकिन प्रियंका के आवास 35, लोधी रोड बंगले पर तैनात स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप ने फरवरी 2013 से जनवरी 2016 तक बिजली बिल के रूप में 24,45,120 रुपए अदा किए. इसके अलावा सितम्बर 2012 से दिसंबर 2015 तक प्रियंका ने 7,08,098 रुपए का भुगतान अलग से किया. इन दोनों को मिला लेने पर इस आवास के लिए सितम्बर 2012 से जनवरी 2016 तक की कुल राशि 31,53,218 रुपए बनती है जो कि राहुल और सोनिया दोनों की कुल बिजली खपत से कहीं ज्यादा है.

पढ़ें: हिमाचल की संपत्ति को लेकर कानूनी दांवपेंच में उलझी प्रियंका गांधी

इसी सूचना के आधार पर भट्टाचार्य प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यालय से सम्पर्क साधा है और एसपीजी के नाम पर इतनी भारी बिजली खपत की जांच की मांग की है.

भट्टाचार्य ने कहा, "मैं तो हैरान हूं कि प्रियंका के घर पर एसपीजी द्वारा इतनी भारी बिजली खपत कैसे और क्यों की जा रही है. उनकी जिम्मेदारी सुरक्षा उपलब्ध कराने की है, ऐसे में उन्होंने किस मक़सद से इतनी बिजली इस्तेमाल कर डाली? मैं जानना चाहता हूं कि वहां ऐसा क्या स्पेशल हो रहा है. इसके विपरीत राहुल और सोनिया दोनों के घर पर भी एसपीजी तैनात है और बिजली खर्च करती है, लेकिन उन दोनों घरों की बिजली खपत इससे बहुत कम है. चूंकि वहां एसपीजी के लिए अलग से बिजली मीटर नहीं हैं, उनकी खपत कुल बिजली बिल में शामिल होती है."

उन्होंने आगे कहा, "प्रधानमंत्री कार्यालय के मार्फ़त मैंने गृह मंत्रालय के अधीन आने वाले सचिव (सुरक्षा) को यह निर्देश देने की मांग की है कि वे जांच कर पता लगाएं कि क्या वास्तव में एसपीजी ही इतनी भारी बिजली खपत कर रही है या वहां कुछ और चल रहा है?"

विशेष सुरक्षा ग्रुप में शामिल प्रियंका के घर पर न सिर्फ अलग से बिजली मीटर हैं, बल्कि पानी का मीटर भी अलग से लगा है

उन्होंने यह भी रेखांकित किया कि प्रियंका के घर की तुलना में उनकी मां सोनिया का घर अधिक व्यस्त है. 10 जनपथ में हर समय बैठकें चलती रहती हैं, लेकिन प्रियंका के घर पर ऐसा कुछ नहीं होता. उन्होंने कहा कि सांसद होने के नाते राहुल का घर भी प्रियंका की तुलना में अधिक व्यस्त रहता है.

भट्टाचार्य ने कहा, "सोनिया और राहुल दोनों सांसद हैं, इसलिए यह समझ में आता है कि उनके बिल सरकार भर रही है. लेकिन सिर्फ बिजली खपत के लिए अकेली प्रियंका द्वारा सात लाख रुपए का भुगतान हैरान करने वाला है. यह इसलिए भी हैरान करने वाला है क्योंकि कथित तौर पर प्रियंका ने 35, लोधी रोड के किराए में भी छूट ली हुई है जो फाइलों में दर्ज है. प्रियंका और एसपीजी दोनों को आगे आकर इसका स्पष्टीकरण देना चाहिए."

पढ़ें: क्या उत्तर प्रदेश में प्रशांत किशोर को मिलेगा प्रियंका गांधी का साथ?

भट्टाचार्य ने दावा किया है कि उन्होंने प्रियंका द्वारा की जा रही भारी बिजली खपत की जानकारी भी अलग शपथ पत्र में हिमाचल उच्च न्यायालय में जमा की है. वहां प्रियंका गांधी वाड्रा इस बात के लिए कानूनी जंग लड़ रही हैं कि शिमला के पास मशोबरा में स्थित उनकी सम्पत्ति की जानकारी इस आरटीआई कार्यकर्ता को ना दी जाए.

मामले की अगली सुनवाई छह जून को होगी. भट्टाचार्य द्वारा एक आवेदन के जरिये प्रियंका द्वारा मशोबरा में खरीदी गई सम्पत्ति की जानकारी मांगी गई है जिस पर जवाब दाखिल करने के लिए प्रियंका गांधी को अदालत ने चार सप्ताह का समय दिया है.

भट्टाचार्य ने कहा, "मेरी आपत्ति है कि हिमाचल प्रदेश में मुझे जानकारी देने से रोकने के लिए एसपीजी को कवच क्यों बनाया जा रहा है? पहले मुझे जानकारी देने से इंकार कर दिया गया कि उनको एसपीजी की सुरक्षा मिली हुई है और जानकारी देने से उनकी सुरक्षा को खतरा होगा. दूसरी ओर एनएमडीसी ने आगे बढ़कर न सिर्फ इस परिवार की बिजली और पानी की खपत की पूरी जानकारी दी बल्कि एसपीजी की पूरी खपत की भी जानकारी दे दी. मैं यही बात अदालत के समक्ष रखना चाहता हूं."

First published: 12 May 2016, 19:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी