Home » इंडिया » WHO showed Kashmir wrong on map, India expressed serious resentment, say change immediately
 

WHO ने कश्मीर को नक्शे में दिखाया गलत, भारत ने जताई गंभीर नाराजगी, लिखा- तुरंत बदलो

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 January 2021, 14:05 IST

Map of India in WHO: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की वेबसाइट पर भारत के नक्शे को गलत दिखाने के मामले में मोदी सरकार ने कड़ा रुख अपनाया है. WHO के डायरेक्टर-जनरल टेड्रोस अधनोम घेब्रेसस से नई दिल्ली ने दो टूक कहा है कि वे अपनी वेबसाइट पर लगे भारत के नक्शे को नए मैप से तुरंत बदलें.

WHO को भेजा यह पत्र एक महीने में तीसरा है. 3 और 30 दिसंबर को भी भारत ने डब्ल्यूएचओ के डायरेक्टर-जनरल के ऑफिस को पत्र भेजा था. इस पत्र में कहा गया था कि कोरोना वायरस  डैशबोर्ड समेत वीडियोज तथा नक्शा भारत की वास्तविक सीमाओं को नहीं दर्शाते हैं. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि इंद्र मणी पांडे ने WHO के सामने यह आपत्ति दर्ज करवाई.

इंद्र मणि पांडे ने 8 जनवरी को यह पत्र WHO को भेजा. उन्होंने पत्र में लिखा, ''डब्ल्यूएचओ के विभिन्न वेब पोर्टलों के नक्शे में भारत की सीमाओं को गलत दिखाया गया है. अपनी गहरी नाराजगी जाहिर करते हुए यह पत्र लिख रहा हूं. डब्ल्यूएचओ को भेजे गए पिछले मैसेजों पर आपका ध्यान आकर्षित करना चाहता हूं."

उन्होंने लिखा, "इस तरह की गतलियों की ओर हम इशारा करते हैं. डब्ल्यूएचओ के विभिन्न वेब पोर्टलों से भारत की सीमाओं को गलत तरीके से दिखाने वाला नक्शा तुरंत हटाया जाए. इसके लिए आप तत्काल हस्तक्षेप करें.'' बता दें कि WHO ने इस मैप में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को भारत से अलग दिखाया था.

इस मैप में 5,168 स्क्वायर किलोमीटर में फैली शक्सगाम घाटी(जिसे साल 1963 में पाकिस्तान ने अवैध रूप से चीन को सौंप दिया था) उसे चीन का हिस्सा दिखाया गया है. इसके अलावा साल 1954 से चीन के कब्जे वाले अक्साई चिन के क्षेत्र को हल्के नीले रंग की पट्टियों में दर्शाया गया है. यह ऐसा ही है, जिसका इस्तेमाल चीनी क्षेत्र को बताने के लिए किया जाता है.

BJP सांसद साक्षी महाराज का बयान- पश्चिम बंगाल चुनाव में हमारी मदद करेंगे असदुद्दीन ओवैसी

क्या चीन से हुई कोरोना की उत्पत्ति, जानने के लिए वुहान पहुंची 10 सदस्यीय WHO टीम

 

First published: 14 January 2021, 13:57 IST
 
अगली कहानी