Home » इंडिया » Why Ambala was chosen as the IAF base for inducting Rafales, Know reason
 

Rafale in India: आखिर अंबाला एयरबेस को ही क्यों चुना गया है राफेल की तैनाती के लिए, जानिए कारण

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2020, 20:17 IST

फ्रांस से सात हजार किलोमीटर की यात्रा करने के बाद, दुनिया के सबसे बेहतरीन फाइटर जेट्स राफेल, बुधवार दोपहर को अंबाला एयर बेस पर लैंड करेंगे. इन विमानों की अगुवाई के लिए खुद भारतीय वायु सेना अध्यक्ष मौजूद रहेंगे. 17वीं गोल्डन एरो स्क्वॉड्रन के कमांडिंग ऑफिसर शौर्य चक्र विजेता ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह, उस टीम को लीड कर रहे हैं जो पांचो विमानों को उड़ाकर ला रहे हैं.

आखिर अंबाला एयरबेस ही क्यों


अंबाला एयर बेस भारत का सबसे पुराना एयरबेस है. अंबाला एयर बेस को फिल्टर बेस कहा जाता है और यही से पूरे उत्तर भारत की निगरानी की जाती है. अंबाला एयर बेस से भारतीय वायु सेना ने कई सफल ऑपरेशन चलाएं है, जिसमें कारगिल के दौरान चलाया गया ऑपरेशन सफेद सागर भी शामिल है. रणनीतिक रूस से अंबाला एयरफोर्स काफी महत्वपूर्ण है, यह भारत के दो पड़ोसी देश- पाकिस्तान और चीन की सीमा के पास है. बता दें, इन दोनों देशों के साथ भारत का विवाद चल रहा है, और कहा जा रहा है कि लद्दाख में जारी तवान के कारण भी इसे अंलाबा एयर बेस पर तैनात किया जा रहा है.


आउटलुक की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय वायु सेना के अधिकारियों ने बताया है कि अंबाला में ही राफेल को इसलिए तैनात किया गया है क्योंकि यह पर इसके लिए आधारभूत संरचना और तकनीकी सुविधाओं, स्थानीय उड़ान के लिए हवाई क्षेत्र की उपलब्धता और प्रशिक्षण के साथ-साथ भारत के अन्य क्षेत्र के एयरबेसों से संपर्क करने जैसे कई कारण हैं.

अंबाला एयर बेस पर लगी एक सूचना पट्टिका के अनुसार,"सैन्य उड्डयन के साथ अंबाला की वास्ता साल 1919 में शुरू हुआ था, जब 'कैंप अंबाला' बनाया गया था और ब्रिस्टल सेनानियों से सुसज्जित रॉयल एयर फोर्स (RAF) के 99 स्क्वाड्रन वहां स्थित थे. अंबाला का अगला अवतार 'RAF इंडिया के मुख्यालय के रूप में था."

1 अगस्त, 1954 को नंबर 7 विंग के अपने वर्तमान पदनाम पर आने से पहले इसने अपनी भूमिका में कई बदलाव देखे. शुरुआती दिनों में, डी हैविलैंड 9A और ब्रिस्टल F2B जैसे विमान अंबाला से उड़ान भरते थे. जैसे-जैसे भारत में हवाई परिचालन बढ़ने लगा, अधिक अधिकारियों को अंबाला में स्थानांतरित कर दिया गया और इसे 18 जून, 1938 को एक स्थायी वायु सेना बेस बनाया गया. तत्कालीन एडवांस्ड फ्लाइंग ट्रेनिंग स्कूल भी वहां आधारित था. बता दें, देश में वायु सेना के 60 एयर स्टेशन हैं और अंबाला एयरफोर्स स्टेशन वायुसेना की लिस्ट में दूसरे नंबर पर आता है.

Rafale In India: अंबाला एयरबेस पर कुछ इस अंदाज में उतरे राफेल, रक्षा मंत्री ने किया स्वागत

भारत में पहला राफेल लैंड करवाएंगे ग्रुप कैप्टन हरकीरत, 12 साल पहले हवा में किया था हैरतअंगेज कारनामा

First published: 29 July 2020, 15:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी