Home » इंडिया » Catch Hindi: why did senior journalist rajdeep sardesai leave twitter?
 

राजदीप सरदेसाई को ट्विटर क्यों छोड़ना पड़ा?

सोमी दास | Updated on: 1 May 2016, 8:47 IST

लोगों तक खबर पहुंचाने वाले पत्रकार पिछले कुछ सालों से खुद खबर बनते जा रहे हैं. ताजा मामला इतालवी कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड के हेलीकॉप्टरों से जुड़े कथित घोटाले का है. खबरों के अनुसार अगस्ता वेस्टलैंड का बिचौलिया क्रिस्चियन मिशेल करीब 20 पत्रकारों को घूस देकर मैनेज कर रहा था. यह खबर आते ही ट्विटर पर 'अगस्ता पत्रकार' हैशटैग ट्रेंड करने लगा.

मीडिया में आई खबरों के अनुसार मिशेल ने प्रभावशाली भारतीय पत्रकारों को कंपनी के खिलाफ खबर करने से रोकने के लिए 60 लाख यूरो (करीब 45 करोड़ रुपये) दिए थे. ये 20 पत्रकार कौन थे इसके बारे में अभी कोई भी जानकारी सामने नहीं आई है, न ही किसी पत्रकार का नाम सामने आया.

पढ़ेंः अगस्ता वेस्टलैंड पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई को तैयार, जानिए क्या है विवाद

लेकिन सोशल मीडिया पर कई पत्रकारों का नाम उछाला जाने लगा. ट्विटर ट्रॉल बरखा दत्त, सागरिका घोष और राजदीप सरदेसाई पर निशाना साध रहे हैं.
Tufail Ahmad Tweet on Barakha Dutt

बरखा दत्त के फरवरी, 2013 का एक ट्वीट पेश करके उनपर अगस्ता वेस्टलैंड मामले पर नरमी के साथ पेश आने का आरोप लगाया जा रहा है.

शनिवार को अचानक से ही ट्विटर पर राजदीप सरदेसाई ट्रेंड करने लगा. जिसके बाद मामले ने एक गंदा मोड़ ले लिया. कुछ ट्विटर यूजरों ने आपत्तिजनक ट्वीट में सरदेसाई को निशाना बनाया.

Shilpi Tewari Tweet on Rajdeep

वहीं कुछ ट्विटर यूजरों ने आरोप लगाया कि सरदेसाई ने उन्हें अभद्र डायरेक्ट मैसेज भेजा. इस पूरे मामले से आहत होकर सरदेसाई ने ट्विटर छोड़ने की घोषणा कर दी.

कैच से बात करते हुए सरदेसाई ने कहा, "अब वो लोग अपनी बात साबित करने के लिए फोटोशॉप की हुई तस्वीरें लगा रहे हैं. मैं बस इतना ही कहना चाहता हूं कि मैंने किसी को अश्लील मैसेज नहीं भेजा."

अपना ट्विटर एकाउंड डिसेबल करने से पहले सरदेसाई ने ट्वीट किया, "कुछ लोग कितना नीचे गिर सकते हैं? मेरा एकाउंट हैक कर सकते हैं? जाली मैसेज भेज सकते हैं? ये कब खत्म होगा? अब वक्त आ गया है कि इस एकाउंट को बंद कर दिया जाए. बस, बहुत हो चुका."

rajdeep

वहीं पत्रकार मनु पब्बी ने पत्रकारों की ऐसी किसी लिस्ट के होने की बात को गलत बताया. फिलहाल टाइम्स नाउ में काम कर रहे पब्बी पहले इंडियन एक्सप्रेस में काम करते थे.

पब्बी ने ये भी स्पष्ट किया कि बरखा दत्त के 2013 के जिस ट्वीट को शेयर किया जा रहा है उसका 2010 के विवादित हेलीकॉप्टर डील से कोई संबंध नहीं है.

मीडिया विशेषज्ञ दिलीप चेरियन कहते हैं कि व्हाट्सऐप पर 'अगस्ता-पत्रकारों' की "पूरी तरह जाली" लिस्ट घूम रही है.

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: पूर्व रक्षा मंत्री एंटनी के दावे को जेटली ने नकारा

सरदेसाई की पत्नी और वरिष्ठ पत्रकार सागरिका घोष ने ट्वीट किया, "एक कंपनी ने एक रक्षा सौदे के लिए 50 करोड़ पत्रकारों पर खर्च किया? क्या हम पागल हो गए हैं?"

सोशल मीडिया के अलावा केवल टाइम्स नाउ चैनल ही इस खबर को तरजीह दे रहा है. विश्वसनीय जानकारी के अभाव में दूसरे मीडिया संस्थान इस खबर से परहेज कर रहे हैं.

टाइम्स नाउ के एडिटन-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी ने 'अगस्ता-पत्रकार घोटाला और इंडिया' पर प्राइम टाइम की बहस करवाई. अर्णब ने आरोप लगाया कि अगस्ता वेस्टलैंड की मूल कंपनी ने भारतीय पत्रकारों को इटली का दौरा कराया था.

अब ये मामला क्या मोड़ लेगा ये तो वक्त ही बताएगा लेकिन ट्रॉल से तंग आकर सोशल मीडिया छोड़ने वाले एनडीटीवी के रवीश कुमार के बाद सरदेसाई दूसरे पत्रकार बन गए हैं.

First published: 1 May 2016, 8:47 IST
 
सोमी दास @Somi_Das

Somi brings with her the diverse experience of working in a hard news environment with ample exposure to long-form journalism to Catch. She has worked with Yahoo! News, India Legal and Newslaundry. As the Assistant Editor of Catch Live, she intends to bring quality, speed and accuracy to the table. She has a PGD in Print and TV journalism from YMCA, New Delhi, and is a lifelong student of Political Science.

पिछली कहानी
अगली कहानी