Home » इंडिया » Why did Tulsi Mata curse Lord Ganesha This is the reason
 

भगवान गणेश को तुलसी माता ने क्यों दिया था श्राप? ये है वजह

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 August 2020, 18:59 IST

आज पूरा देश गणेश चतुर्थी का पर्व मना रहा है. मान्यता के अनुसार वैसे तो बप्पा को घर में 10 दिन रखने की परंपरा है, लेकिन लोग इन्हें अपनी इच्छानुसार घर में रखते हैं. कोई बप्पा को एक दिन के लिए लाता है तो कोई तीन दिन के लिए. क्योंकि हिंदू धर्म में कोई भी पूजा, हवन या मांगलिक कार्य भगवान गणेश की स्तुति के बिना अधूरा है.

इसी के चलते गणेश चतुर्थी यानि कि भगवान गणेश के जन्मदिवस को पूरे देश में उत्तसाहपूर्वक मनाया जाता है. पुराणे में भगवान गणेश से जुड़ी कई मान्यताएं मिलती हैं. इनमें से एक है गणपति और तुलसी की कहानी. चलिए बताते हैं आपको इसके बारे में.


ये भी पौराणिक कथा है कि एक दिन तुलसी देवी गंगा घाट के किनारे से गुजर रही थीं. उस समय गणेश जी वहां पर ध्यान कर रहे थे. गणेश जी को देखते ही तुलसी देवी उनकी ओर आकर्षिक हो गई और गणेश जी को विवाह का प्रस्ताव दे दिया. लेकिन गणेश जी ने इस प्रस्ताव से मना कर दिया था. गणेश जी से न सुनने पर तुलसी देवी बेहद क्रोधित हो गई, जिसके बाद तुलसीदेवी ने गणेश जी को श्राप दिया कि उनके दो विवाह होंगे.

इस पर गणेश जी ने भी तुलसी को श्राप दे दिया कि उनका विवाह एक असुर से होगा. ये श्राप सुनते ही तुलसी गणेश भगवान से माफी मांगने लगीं. तब गणपति ने कहा कि तुम्हारा विवाह शंखचूर्ण राक्षस से होगा लेकिन इसके बाद तुम पौधे का रूप धारण कर लोगी. गणेश भगवान ने कहा कि तुलसी कलयुग में जीवन और मोक्ष देने वाली होगी लेकिन मेरी पूजा में तुम्हारा प्रयोग नहीं होगा. इसलिए गणेश भगवान को तुलसी चढ़ाना शुभ नहीं माना जाता है.

शिव महापुराम के अनुसार, गणेश जी की दो पत्नियां थीं. रिद्धि और सिद्धि और उनके दो पुत्र शुभ और लाभ हैं. ब्रह्नावैवर्त पुराण के मुताबिक, एक दिन परशुराम भगवान शिव से मिलने से रोक दिया. इस बात से परशुराम बेहद क्रोधित हो गए और उन्होंने गणेश जी पर हमला कर दिया.

हमले के लिए परशुराम ने जो हथियार इस्तेमाल किया था वो उन्हें खुद भगवान शिव ने ही दिया था. गणेश जी नहीं चाहते थे कि परशुराम द्वारा उन पर किया गया हमला बेकार जाए क्योंकि हमला करने के लिए हथियार खुद उनके पिता ने ही परशुराम को दिया था. उस हमले के दौरान उनका एक दांत टूट गया था, तभी से उन्हें ' एकदंत ' के नाम से पहचाने जाने लगा. गणेश पुराम के मुताबिक, व्यक्ति के शरीर का मूलाधार चक्र गणेश भी कहा जाता है.

Ganesh Chaturthi 2020: दुनिया का सबसे बड़ा मुस्लिम देश अपनी करेंसी में छापता है भगवान गणेश की तस्वीर

इस पर गणेश जी ने भी तुलसी को श्राप दे दिया कि उनका विवाह एक असुर से होगा. ये श्राप सुनते ही तुलसी गणेश भगवान से माफी मांगने लगीं. तब गणपति ने कहा कि तुम्हारा विवाह शंखचूर्ण राक्षस से होगा लेकिन इसके बाद तुम पौधे का रूप धारण कर लोगी. गणेश भगवान ने कहा कि तुलसी कलयुग में जीवन और मोक्ष देने वाली होगी लेकिन मेरी पूजा में तुम्हारा प्रयोग नहीं होगा. इसलिए गणेश भगवान को तुलसी चढ़ाना शुभ नहीं माना जाता है.

शिव महापुराम के अनुसार, गणेश जी की दो पत्नियां थीं. रिद्धि और सिद्धि और उनके दो पुत्र शुभ और लाभ हैं. ब्रह्नावैवर्त पुराण के मुताबिक, एक दिन परशुराम भगवान शिव से मिलने से रोक दिया. इस बात से परशुराम बेहद क्रोधित हो गए और उन्होंने गणेश जी पर हमला कर दिया.

हमले के लिए परशुराम ने जो हथियार इस्तेमाल किया था वो उन्हें खुद भगवान शिव ने ही दिया था. गणेश जी नहीं चाहते थे कि परशुराम द्वारा उन पर किया गया हमला बेकार जाए क्योंकि हमला करने के लिए हथियार खुद उनके पिता ने ही परशुराम को दिया था. उस हमले के दौरान उनका एक दांत टूट गया था, तभी से उन्हें ' एकदंत ' के नाम से पहचाने जाने लगा. गणेश पुराम के मुताबिक, व्यक्ति के शरीर का मूलाधार चक्र गणेश भी कहा जाता है.

शनिवार के दिन आजमाएं ये टोटके, दूर हो जाएंगे शनि ग्रह के कुप्रभाव

First published: 22 August 2020, 18:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी