Home » इंडिया » Wing Commander Pooja Thakur moves Armed Forces Tribunal
 

ओबामा को गार्ड ऑफ ऑनर देने वाली विंग कमांडर पूजा ठाकुर को इंसाफ चाहिए

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 July 2016, 15:44 IST
(पत्रिका)

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को राष्ट्रपति भवन में गार्ड ऑफ ऑनर देने वाली भारतीय वायु सेना की विंग कमांडर पूजा ठाकुर ने स्थायी कमीशन न दिए जाने के खिलाफ आर्म्ड फोर्सेस ट्रिब्यूनल का दरवाजा खटखटाया है.

पूजा ठाकुर ने कोर्ट में एयरफोर्स के इस रवैये को भेदभावपूर्ण, पक्षपातपूर्ण, मनमाना और बेतुका बताया है. पूजा का कहना है कि एक तरफ महिला बटालियन की बात, दूसरी तरफ ऐसा व्यवहार.

गौरतलब है कि पीएम मोदी ने सशस्त्र सेना बल में महिलाओं को सशक्त करने पर जोर दिया है और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर महिला बटालियन की पैरवी कर रहे हैं.

ठाकुर के वकील सुधांशु पांडेय ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया, "आर्म्‍ड फोर्से‍ज ट्र‍िब्‍यूनल ने उनकी याचिका को सुनवाई के लिए कबूल कर लिया है और इंडियन एयरफोर्स से चार हफ्ते में जवाब दाखिल करने को कहा है." 

गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व करके रचा था इतिहास

साल 2000 में शॉर्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) के तहत इंडियन एयरफोर्स ज्‍वाइन करने वाली पूजा एडमिनिस्‍ट्रेटिव ब्रांच से ताल्‍लुक रखती हैं. पूजा के पिता भारतीय सेना में कर्नल के पद से रिटायर हुए हैं. राजस्थान की रहने वाली पूजा एयरफोर्स के दिल्ली हेडक्वार्टर में तैनात हैं.

भारतीय वायुसेना की विंग कमांडर पूजा ठाकुर ने पिछले साल जनवरी में राष्ट्रपति भवन में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के स्वागत समारोह के दौरान गार्ड ऑफ ऑनर की अगुवाई कर इतिहास रच दिया था. वह राष्ट्रपति भवन में किसी राजकीय मेहमान को दिए गए गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व करने वाली पहली महिला अधिकारी बनी थीं.

First published: 14 July 2016, 15:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी