Home » इंडिया » Workers' special trains killed 80 people between 9 May and 27 May: reporta
 

श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 9 मई से 27 मई के बीच हुई 80 लोगों की मौत : रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 May 2020, 12:29 IST

Lockdown : रेलवे सुरक्षा बल के आंकड़ों के अनुसार 9 मई से 27 मई के बीच श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में लगभग 80 मौतें हुई हैं. इन गाड़ियों को 1 मई को लॉन्च किया गया था. 3,840 ट्रेनों में लगभग 50 लाख प्रवासी श्रमिकों को घर वापस ले जाया गया. बुधवार को पिछले कुछ दिनों में इन ट्रेनों में नौ मौतों की खबरें थीं, लेकिन रेल मंत्रालय ने तुरंत स्पष्ट कर दिया कि मरने वालों में से अधिकांश पुरानी बीमारियों के मरीज थे. मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि कई यात्रियों की मौत थकावट, गर्मी और भूख से हुई थी.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार आरपीएफ के एक अधिकारी ने संख्याओं की पुष्टि की और कहा कि यह प्रारंभिक सूची है, राज्यों के साथ समन्वय के बाद जल्द ही एक अंतिम सूची जारी की जाएगी. शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वीके यादव ने कहा "हर मौत बहुत बड़ी क्षति है... भारतीय रेलवे के पास एक नियंत्रण प्रणाली है, जिसमें ट्रेन को तुरंत रोका जाता है अगर कोई बीमार पाया जाता है और उन्हें निकटतम अस्पताल में भेजा जाता है''. यादव ने कहा कि ट्रेनों में भूख से हुई मौत की खबर गलत है, मौतों की जांच की जा रही है. उन्होंने कहा कि ट्रेनों में पर्याप्त खाना और पानी दिया जा रहा है.


Coronavirus : कोरोना से हुई एक दिन में सबसे ज्यादा मौतें, 7,964 लोग पाए गए पॉजिटिव

यादव ने बताया कि इन ट्रेनों में अब तक 30 से ज्यादा डिलीवरी हुई है. लोगों से अपील है कि जो महिलाएं गर्भवती हैं, या जो लोग गंभीर रुप से बीमार हैं वो इस समय यात्रा न करें. रेलवे ने सफाई दी कि कोई ट्रेन अपने मार्ग से नहीं भटकी है.

आंकड़ों के अनुसार 9 मई से 27 मई तक ईस्ट सेंट्रल रेलवे ज़ोन, पूर्वोत्तर रेलवे ज़ोन, नॉर्थर रेलवे ज़ोन और नार्थ सेंट्रल रेलवे ज़ोन सहित कई ज़ोन में मौतें हुई. मृतकों की उम्र 4 से 85 के बीच थी. पूर्वोत्तर रेलवे क्षेत्र में 18, उत्तर मध्य क्षेत्र में 19 और पूर्वी तट रेलवे क्षेत्र में 13 मौतें हुई हैं. कुल श्रमिक ट्रेनों का लगभग 80 फीसदी उत्तर प्रदेश और बिहार से थे.

लैब टेक्नीशियन से बंदरों ने छीन लिए कोरोना पॉजिटिव मरीजों के ब्लड सैंपल, अब क्या होगा ?

First published: 30 May 2020, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी