Home » इंडिया » World Bank drops plan to lend $300 mn for Chandrababu Naidu’s Amravati project
 

वर्ल्डबैंक ने आंध्र को दिया झटका, रद्द किया अमरावती प्रोजेक्ट के लिए प्रस्तावित कर्ज

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 July 2019, 8:35 IST

विश्व बैंक ने आंध्र प्रदेश की नई राजधानी अमरावती के निर्माण के लिए राज्य को 300 मिलियन डॉलर (लगभग 2,065 करोड़ रुपये) के ऋण देने की अपनी योजना को रद्द कर दिया है. विश्व बैंक ने अपनी वेबसाइट पर इसका जिक्र किया है. वेबसाइट ने लिखा है कि अमरावती सस्टेनेबल इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड इंस्टीट्यूशनल डेवलपमेंट प्रोजेक्ट की वर्तमान स्थिति यह है कि फ़िलहाल इसे ख़त्म कर दिया गया है.

हालांकि ऋण प्रस्ताव को रद्द करने का कारण अभी तक ज्ञात नहीं है. मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी के नेतृत्व वाली नवगठित वाईएसआर कांग्रेस सरकार ने अपनी प्राथमिकताओं में अमरावती को राजधानी के रूप में नहीं रखा है. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार राजधानी परियोजना की कार्यान्वयन एजेंसी आंध्र प्रदेश कैपिटल रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी (APCRDA) के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि ऋण रद्द करने पर विश्व बैंक से कोई आधिकारिक जानकारी नहीं मिली है.

 

आधिकारिक आंकड़े बताते हैं कि 2016 में एन चंद्रबाबू नायडू की अगुवाई वाली पूर्व तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) सरकार द्वारा प्रस्तावित विश्व बैंक को कुल लागत $ 715 मिलियन थी, जिसमें से बैंक $ 300 मिलियन की सहायता प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध था.जब यह परियोजना विश्व बैंक की जांच के अधीन थी, तो इसे किसानों से बड़ी संख्या में शिकायतें मिलीं जिन्होंने अपनी भूमि को देने से मना कर दिया था और कुछ एनजीओ प्रतिनिधियों ने भी कहा था कि अमरावती परियोजना टिकाऊ नहीं है और इसका निर्माण पर्यावरणीय कानूनों के उल्लंघन में किया जा रहा है.

इसके बाद विश्व बैंक के अधिकारियों की एक टीम ने पूंजी क्षेत्र का निरीक्षण किया और हितधारकों के साथ बातचीत की. बाद में सरकार ने जुलाई 2018 में एक संशोधित प्रस्ताव भेजा जिसमें कहा गया कि राष्ट्रीय हरित अधिकरण ने परियोजना के लिए अपनी मंजूरी दे दी है.

मायावती के भाई और भाभी पर इनकम टैक्स का छापा, नोएडा में 400 करोड़ का बेनामी प्लॉट जब्त

 

First published: 19 July 2019, 8:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी