Home » इंडिया » World Bank is finalising a new initiative to resolve Indus Waters Treaty, says Pakistan
 

वर्ल्ड बैंक सुलझाएगा भारत और पाकिस्तान के बीच चल रहे इस बड़े विवाद को

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 September 2018, 16:08 IST

वर्ल्ड बैंक भारत और पाकिस्तान के बीच सिंधु जल संधि विवाद को सुलझाने के करीब है. ख़बरों की माने तो वह जल्द भारत और पाकिस्तान से संपर्क करेगा. विश्व बैंक के अध्यक्ष जिम योंग किम ने सोमवार को न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के दौरान पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरेशी से मुलाकात की, जहां उन्होंने संधि पर चर्चा की. बयान में कहा गया, "बैठक का ध्यान सिंधु जल संधि के कार्यान्वयन में विश्व बैंक की भूमिका पर थी."

कुरेशी ने जिम को बताया किशनगंगा पर भारत की जलविद्युत विद्युत परियोजनाओं का निर्माण संधि का उल्लंघन कर रही है. क्योंकि पाकिस्तान के पास पश्चिमी नदियों के लिए विशेष अधिकार थे. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान की अगुआई वाली नई सरकार ने इसे मानवीय मुद्दे के रूप में देखा और इसे राजनीतिक बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई.

ये भी पढ़ें :2040 तक भारत को हर साल होगी इतने तेल की जरूरत, कीमतें कर सकती हैं परेशान

 

जनवरी 2017 में पाकिस्तान ने भारत से दो परियोजनाओं के निर्माण को बंद करने के लिए कहा था. उसने विश्व बैंक से विवाद में मध्यस्थता के लिए अदालत स्थापित करने के लिए कहा था. हालांकि विश्व बैंक द्वारा प्रक्रियात्मक देरी ने भारत को किशनगंगा परियोजना पर काम पूरा करने में सक्षम बनाया था.

जिम ने कुरेशी को बताया कि विश्व बैंक जल्द से जल्द इस मुद्दे को हल करने में रचनात्मक भूमिका निभाना चाहता था. उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन की चल रही चुनौती के साथ अंतर्राष्ट्रीय एजेंडा पर जल मुद्दे अधिक प्रमुख होने की संभावना है.

सिंधु जल संधि सितंबर 1960 में तैयार की गई और विश्व बैंक के नियम बताते हैं कि कैसे सिंधु के पानी और दोनों देशों में बहने वाली सहायक नदियों का उपयोग किया जाएगा. समझौते के मुताबिक भारत ब्यास, रवि और सतलज को नियंत्रित करता है जबकि पाकिस्तान सिंधु, चिनाब और झेलम को नियंत्रित करता है.

पिछले महीने दोनों देशों ने लाहौर में संधि पर द्विपक्षीय चर्चा शुरू की. इससे पहले भारत-पाकिस्तान स्थायी सिंधु आयोग ने मार्च में नई दिल्ली में मुलाकात की और संधि के तहत जल प्रवाह और पानी की मात्रा का विवरण बदल दिया.

First published: 25 September 2018, 16:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी