Home » इंडिया » Worst Plane Crashes In 2018 In World Know How Many People Died In That Accidents
 

Flashback 2018 : ये हैं साल 2018 के खतरनाक विमान हादसे, जिनमें चली गई सैकड़ों लोगों की जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 December 2018, 16:57 IST

साल 2018 के जाने में बस 18 दिन बाकी बचे हैं. इस साल दुनियाभर में तमाम ऐसी घटनाएं हुई जिनमें से कुछ ने लोगों को खुश किया तो किसी ने पूरी दुनिया को गमगीन कर दिया. आज हम आपको ऐसे ही कुछ हादसों के बारे में बता रहे हैं जिनकी वजह से इस साल यानि साल 2018 में पूरी दुनिया में मायूसी छा गई. हम आपको कुछ विमान हादसों के बारे में बताने जा रहे हैं जो इस साल जनवरी से लेकर दिसंबर महीने तक हुए. जिनमें सैकड़ों यात्रियों की जान चली गई.

तो चलिए ऐसे ही कुछ हादसे आपके बताते हैं जो इस साल पूरी दुनिया को दुख देकर चले गए. सबसे पहले बात करते हैं जनवरी 2018 की.


गुरुवार 11 फरवरी 2018 उन लोगोंं के लिए मौत लेकर आया जो सेराटोव एयरलाइंस के विमान 6W703 से यात्रा कर रहे थे. ये हादसा उस वक्त जब विमान मॉस्को एयरपोर्ट से उड़ान भर रहा था. उड़ान के दौरान ही विमान क्रैश हो गया. जिसमें 71 लोगों की मौत हो गई.

दूसरी हादसा 13 जनवरी को हुआ जब पेगासस एयरलाइंस का एक विमान क्रैश हो गया. इस विमान हादसे में 166 लोगों की जान बाल-बाल बच गई. क्योंकि हादसे के तुरंत बाद बचाव दल ने सभी को सुरक्षित निकाल लिया. ये हादसा तुर्की के ट्रावनजोन में विमान की लैंडिंग के दौरान हुआ था.

इसके बाद फरवरी की 18 तारीख भी 65 लोगों के लिए मौत लेकर आई. जब ये लोग असमान एयर लाइंस के विमान 3704 से सफर कर थे. इस विमान हादसे में सभी 65 यात्रियों की मौत हो गई थी.

12 मार्च 2018 को यूएस-बंग्ला एयर लाइंस का विमान-211 काठमांडू में लैंडिंग के दौरान क्रैश हो गया. इस विमान में 71 लोग सवार थे. जिनमें से 49 लोगों की मौत हो गई. उसके बाद 18 मई 2018 को क्यूबा से एक बुरी खबर आई. जब यहां सरकारी एयरवेज का एक विमान-972 दुर्घटना का शिकार हो गया. जिसमें 100 लोगों की मौत हो गई.

जुलाई महीने का आखिरी दिन यानि 31 जुलाई 2018 भी दुनिया को दुख देने के लिए आया. हालांकि इस हादसे में किसी की मौत नहीं हुई लेकिन विमान में सवाल 103 यात्रियों की जान गले में अटक ई. दरअसल इस दिन एयर मैक्सिको के एक विमान पायलट को उड़ाने के दौरान पता चला कि विमान के इंजन में तकनीकी खराबी आ गई है. उसके बाद पायलट ने विमान को तुरंत उतार लिया. जिसमें 103 यात्री बाल-बाल बच गए.

16 अगस्त 2018 को जियामेन एयरलाइंस का विमान-8667 टेक ऑफ के दौरान रनवे से फिसल गया. हालांकि पायलट अपनी सूझबूझ से एक दर्दनाक हादसा बच गया. इस विमान में 165 यात्री सवार थे जो इस हादसे में बाल-बाल बच गए.

उसके बाद एक सितंबर 2018 भी विमान सेवाओं के लिए काला दिन साबित हुआ. जब यूटियर विमान-579 दुर्घटनाग्रस्त हो गया. साइबेरियाई एयरलाइन यूटियर का एक जेट रूस के शहर सोची में लैंडिंग के दौरान रनवे पर फिसल गया. हालांकि पाइलट ने विमान को रोका तब तक विमान के इंजन में आग लग गई. इस विमान में 170 लोग सवार थे. विमान में आग लगने की वजह से 8 लोग बुरी तरह घायल हो गए.

 

इसी महीने यानि सितंबर में 28 तारीख को को पपुआ एयर नियूगिनी विमान-73 हादसे का शिकार हो गया. विमान ने पोर्ट मोर्सबी से माइक्रोनेशिया के लिए उड़ान भरी थी. तभी विमान फिसलकर समुद्र में जा गिरा. स्थानीय मछुआरों ने घटना स्थल पर नावों को ले जाकर यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया. हालांकि इस हादसे में एक यात्री की मौत हो गई.

इसके बाद 29 अक्टूबर 2018 को भी एक विमान हादसे ने दुनियाभर को हिलाकर रख दिया. दरअसल, लायन एयरलाइंस का विमान जेटी-610 क्रैश होकर समुद्र में गिर गया. इस हादसे में 189 यात्रियों की मौत हो गई. इस विमान को कैप्टन भव्य सुनेजा भारतीय थे. ये विमान उड़ान भरने के मात्र 13 मिनट बाद ही हादसे का शिकार हो गया था. इस विमान ने इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता देश के पश्चिमी शहर पंगकल पिनांग के उड़ान भरी थी.

ये भी पढ़ें- मेघालय हाईकोर्ट के जज का बड़ा बयान, कहा- आजादी के बाद ही देश को हिंदू राष्ट्र घोषित कर देना चाहिए

First published: 13 December 2018, 15:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी