Home » इंडिया » Writer Chetan Bhagat gave tips to create jobs to Modi government
 

मोदी जी... 'सोशल मीडिया और यू-ट्यूब पर वक्त काट रहे हैं ग्रेजुएट युवा'

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 April 2018, 16:16 IST

जाने-माने लेखक चेतन भगत ने देश में रोजगार संकट को लेकर एक महत्वपूर्ण लेख लिखा. इस लेख में चेतन भगत ने रोजगार संकट के लिए मोदी सरकार पर भी कटाक्ष किया है. इकनॉमिक टाइम्स में छपे लेख में वह लिखते हैं कि ''सोशल मीडिया साइट ट्विटर देश में रोजगार को लेकर एक सर्वेक्षण किया गया था. जिसमें लगभग 20 हजार लोगों ने भाग लिया था. इस सर्वे में दो सवाल पूछे गए थे. पहला- देश में स्नातक के लिए नौकरी पाना कितना मुश्किल है? जिसके जवाब में 87 फीसदी लोगों का जवाब था बहुत मुश्किल.

चेतन भगत लिखते हैं कि यदि स्नातकों के लिए स्थिति ये है, तो आप कल्पना कर सकते हैं कि कम योग्यता वाले लोगों के साथ क्या हो रहा होगा''. लेख कहता है ''सर्वे में दूसरा सवाल पूछा गया था एक स्नातक अपनी प्रारंभिक वेतन के लिए क्या उम्मीद करता है. इस सवाल के जवाब में लगभग 61% ने कहा कि उन्हें प्रति माह 5,000-15,000 रुपये की उम्मीद है. यह भी अंग्रेजी में किए गए एक ट्विटर सर्वेक्षण के परिणाम हैं. मैकिन्से की रिपोर्ट की मानें तो जब 2013-15 के दौरान भारत की जीडीपी 7% से अधिक थी, तब भी जॉब ग्रोथ केवल 1.7 फीसदी थी''.

उदाहरण के तौर पर कानपुर म्युनिसिपल कार्पोरेशन ने 3,275 सफारी कर्मचारियों के लिए आवेदन मांगा था, जिसमें 7 लाख लोगों ने आवेदन किया. उनमें से 5 लाख स्नातक और स्नातकोत्तर थे. पिछले महीने रेलवे को एक लाख से कम स्तर समूह सी और डी नौकरियों के लिए 2 करोड़ आवेदन मिले.

चेतन भगत लिखते हैं कि- ''जब मैं देशभर की यात्रा करता हूं तो मुझे कई युवा मिलते हैं जो उचित नौकरियों की तलाश कर रहे होते हैं. कई पढ़ें -लिखे युवा अपने माता-पिता के साथ रहते हैं और स्मार्टफोन पर अपना दिन बिताते हैं. यू-ट्यूब वीडियो और सोशल मीडिया पर वक़्त काट रहे हैं''.

चेतन भगत लिखते है ''भारत में रोजगार संकट के कई कारण हैं. जिसमें ऑटोमेशन प्रमुख है. जो किसी के तात्कालिक नियंत्रण से परे है. उदाहरण के लिए ऑनलाइन खरीदारी खुदरा रोजगार को मार रही है. ऑनलाइन बैंकिंग और एटीएम बैंक शाखा की नौकरियां मार रहे हैं. यात्रा एप्लिकेशन ट्रैवल एजेंट की नौकरियां समाप्त कर रहे हैं''.

First published: 1 April 2018, 16:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी