Home » इंडिया » Yogi government changed Mughal Sarai Junction to Pandit Deendayal Upadhyaya Junction
 

योगी सरकार ने 'जनसंघ के अध्यक्ष' के नाम पर रखा मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 June 2018, 10:09 IST

साल 2017 में यूपी में अपनी सरकार बनाते ही योगी आदित्यनाथ ने मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम बदलने की कवायद शुरू कर दी थी. इसमें अब जाकर सफलता मिली. सरकार ने नोटिफेकशन जारी कर यह सूचना दी. अब से मुगलसराय जंक्शन का नाम जनसंघ के अध्यक्ष पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन के नाम से जाना जाएगा.

बता दें कि राज्य में सरकार बनाते ही योगी सरकार ने इसके लिए कोशिशें शुरू कर दी थी. योगी कैबिनेट ने मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर जनसंघ के अध्यक्ष और अंत्योदय का विचार देने वाले दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर रखने का फैसला किया था. इसके लिए योगी सरकार ने गृहमंत्रालय को पत्र भेजकर अनापत्ति प्रमाणपत्र(एनओसी) मांगा था.

यूपी सरकार के पत्र के बाद बीते 15 मई को गृहमंत्रालय ने नाम बदलने को हरी झंडी दे दी थी. अब राज्यपाल की ओर से स्टेशन का नाम बदलने की अधिसूचना भी जारी कर दी गई. उत्तर प्रदेश शासन के लोक निर्माण अनुभाग की ओर से स्टेशन का नाम बदलने से संबंधित आदेश चार जून को जारी हुआ.

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी इस बाबत ट्वीट करते हुए जानकारी दी. उन्होंने ट्वीट पर लिखा, "नागरिकों की मांग को देखते हुए उत्तर प्रदेश में मुगलसराय जंक्शन का नाम परिवर्तित कर पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन किया गया. उन्हें खुशी है कि अंत्योदय जैसा महान विचार देने वाले पंडित दीनदयाल जी के नाम से अब यह जंक्शन जाना जाएगा." 

 

हालांकि जब योगी सरकार ने इसकी कवायद शुरू की थी तो उनके इस फैसले का कड़ा विरोध किया गया था. लोगों ने सरकार के फैसले पर आपत्ति जताते हुए स्टेशन का नाम पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के नाम पर रखे जाने की मांग की थी. दरअसल, यह शहर पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का जन्मस्थल है. कई संगठन वर्षों से मुगलसराय में शास्त्री स्मारक की मांग कर रहे हैं.

पढ़ें- पाकिस्तान के मेजर जनरल ने दी भारत को धमकी, दिखाया परमाणु हथियारों का रौब

वहीं, आरएसएस और संघ से जुड़े अन्य संगठन के दस्तावेजों के अनुसार, वे 1970 से मुगलसराय को दीनदयाल उपाध्याय नगर के रूप में संदर्भित कर रहे हैं और दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर ही मुगलसराय स्टेशन का नाम चाहते थे.

गौरतलब है कि साल 1968 में आरएसएस-बीजेपी के विचारक और जनसंघ के अध्यक्ष दीनदयाल उपाध्याय का शव मुगलसराय स्टेशन पर संदिग्ध हालत में पाया गया था.

First published: 5 June 2018, 10:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी