Home » इंटरनेशनल » 10,000 Indians struck in Saudi Arab asked for help, Foreign Minister Sushma Swaraj came forward to support
 

सऊदी अरब में फंसे 10 हजार हिंदुस्तानियों ने लगाई गुहार, मदद को आगे आईं सुषमा स्वराज

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 July 2016, 10:55 IST
(ट्विटर)

सऊदी अरब में 10 से ज्यादा हिंदुस्तानी भूख-प्यास से परेशान होकर फंसे हुए हैं. बिना तनख्वाह दिए फैक्ट्रियां बंद कर देने से यह कामगार पैसों के अभाव में सड़क पर आ गए. किसी व्यक्ति ने ट्वीट कर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मदद की गुहार लगाई और उसके बाद विदेश मंत्री ने मदद के हर संभव कार्य करने की घोषणा के साथ ही मामले पर स्वयं नजर रखनी शुरू कर दी है.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक शनिवार को किसी व्यक्ति ने सुषमा स्वराज को ट्वीट कर बताया कि जेद्दा में करीब 800 भारतीय भूखे हैं. कृपया मदद करें. इसके बाद विदेश मंत्री ने भारतीय दूतावास को निर्देश दिया कि वह भोजन की व्यवस्था करें और यह भी सुनिश्चित करें कि कोई हिंदुस्तानी भूखा न रहे.

इसके बाद मीडिया में खबरें चलने लगीं तब विदेश मंत्री द्वारा ट्वीट कर यह जानकारी दी गई कि वहां पर 800 नहीं बल्कि 10 हजार से ज्यादा हिंदुस्तानी फंसे हुए हैं. 

विदेश मंत्री हर घंटे मामले पर नजर रखे हुए हैं और उन्होंने विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह को मामला सुलझाने के लिए सऊदी अरब जाने के लिए कह दिया है. जबकि एमजे अकबर कुवैत और सऊदी के अधिकारियों के सामने इस मुद्दे को उठाकर समाधान निकालने में जुटे हुए हैं.

सुषमा स्वराज ने ट्वीट में लिखा, "रियाद में भारतीय दूतावास से कहा गया है कि सऊदी अरब में बेरोजगार हुए भारतीय कामगारों को मुफ्त में राशन मुहैया कराए."

एक के बाद एक ट्वीट कर उन्होंने लिखा, "सऊदी अरब और कुवैत में भारी संख्या में भारतीयों से रोजगार छिन गया है. नियोक्ताओं ने बिना तनख्वाह दिए अपनी फैक्ट्रियां बंद कर दीं."

"इसके परिणामस्वरूप सऊदी अरब और कुवैत में हमारे भाइयों और बहनों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है."

"जहां कुवैत में स्थिति को संभाला जा सकता है, सऊदी अरब में हालात बहुत बदतर हैं."

"हमनें रियाद में भारतीय दूतावास से कहा है कि सऊदी अरब में बेरोजगार भारतीय कामगारों को मुफ्त में राशन मुहैया कराएं."

सुषमा ने सऊदी अरब में मौजूद 30 लाख भारतीयों से भी अपील की कि वे वहां फंसे अपने हिंदुस्तानी भाई-बहनों की मदद करें. एकजुट भारतीयों की इच्छाशक्ति से ज्यादा ताकतवर कुछ भी नहीं है.

सुषमा द्वारा किए गए इन ट्वीटों और कार्रवाई के बाद से ही वहां पर राशन-पानी बांटने के साथ राहत कार्य शुरू कर दिए गए हैं. तमाम शिविर लगाकर हिंदुस्तानियों की मदद की जा रही है. इससे जुड़ी  कई तस्वीरें भी सुषमा के ट्विटर पर शेयर की गई हैं.

First published: 31 July 2016, 10:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी