Home » इंटरनेशनल » 20 journalists reporting in Afghanistan in 2017, journalist attack in india, media
 

2017 में इस देश में सबसे ज्यादा पत्रकारों ने हिंसा में गंवाई जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 January 2018, 17:44 IST

अफगानिस्तान में वर्ष 2017 में हिंसा की विभिन्न घटनाओं में 20 संवाददता और मीडियाकर्मी मारे गए. देश के स्वतंत्र मीडिया सुरक्षा समूह, अफगान पत्रकार सुरक्षा समिति (एजेएससी) ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. एजेएससी ने अपनी वेबसाइट पर दिए एक बयान में कहा, "अफगानिस्तान के इतिहास में पिछला वर्ष पत्रकारों और मीडियाकर्मियों के लिए सबसे घातक रहा.

2016 के मुकाबले पिछले वर्ष उनके खिलाफ होने वाली हिंसक घटनाओं में 67 प्रतिशत की वृद्धि हुई."समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, एजेएससी ने पत्रकारों एवं मीडियाकर्मियों के खिलाफ हत्या, चोट पहुंचाने, हमला करने, हिरासत में रखने, धमकियां देने और मौखिक हमलों समेत हिंसा और धमकी की 169 घटनाओं को दर्ज किया.

बयान में कहा गया, "सभी बीस मीडियाकर्मी तालिबान और इस्लामिक स्टेट (आईएस) की अफगानिस्तानी शाखा के हाथों मारे गए."

एजेएससी प्रमुख नजीब शरीफी ने कहा, "अफगानिस्तान में पत्रकारों और मीडियाकर्मियों के खिलाफ बढ़ती हिंसक गतिविधियां हमारे और पूरी मीडिया समुदाय के लिए चिंता का विषय हैं."

मीडिया सहायता समिति ने तालिबान और आईएस समेत सभी संघर्षरत समूहों से मीडियाकर्मियों पर हमला नहीं करने के लिए कहा है. अफगानिस्तान में 2016 में कम से कम 13 पत्रकारों की हत्या हुई थी.

First published: 12 January 2018, 17:45 IST
 
अगली कहानी