Home » इंटरनेशनल » 9/11 anniversary 2018 the story of the attack on the world trade center
 

9/11 Terror Attack: आज ही के दिन ही सुपरपॉवर अमेरिका ऐसे हुआ था आतंकियों के आगे नतमस्तक

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 September 2018, 15:19 IST

आज अमेरिका 11 सितंबर, 2001 को हुए आतंकी हमले की 17वीं बरसी मना रहा है.दुनिया कभी भी 11 सितंबर 2001 की सुबह को नहीं भूल सकता है. इस दिन दुनिया का सबसे बड़ा हमला अमेरिका पर हुआ था. इस दिन शायद ही किसी ने सोचा होगा कि दुनिया की सबसे ऊंची इमारतों में शुमार वर्ल्ड ट्रेंड सेंटर कुछ देर बाद ही धूल मिल जाएगी. 

उस दिन भी आम लोग अपनी नौकरी के लिए निकल चुके थे. इस दौरान वर्ल्ड ट्रेंड सेंटर में भी करीब 18 हजार कर्मचारी रोजमर्रा का काम निपटाने में जुटे थे. मगर आठ बजकर 46 मिनट पर कुछ ऐसा हुआ कि अब तक सामान्य सी मालुम पड़ रही यह सुबह भयावह हो उठी. मंजर देख लोग कांप उठे.सपने में भी किसी ने सोचा नहीं था कोई अमेरिका पर आतंकी हमला कर सकता है. इस दिन 19 आतंकियों ने चार विमान हाईजैक किए और फिर वर्ल्ड ट्रेंड सेंटर से दो विमानों को भिड़ा दिया. पहला विमान वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के उत्तरी टावर से  टकराया. पहले लोगों को लगा कि यह हादसा है, मगर कुछ ही देर बाद... 9 बजकर 3 मिनट पर एक और विमान दक्षिणी टावर से टकराया.

इस दौरान हुए विस्फोट से टॉवर आग के गोले में बदल गया. तब जाकर लोगों को अहसास हुआ कि यह हादसा नहीं बल्कि बड़ा आतंकी हमला है. टॉवर में काम कर रहे कर्मियों में चीख-पुकार मच गई. आसपास के लोग बदहवास होकर जान बचाने के लिए दौड़ पड़े. 

ये अमेरिका पर हमले बस  शुरुआत भर ही थी. इन दोनों टावरों पर हमले के बाद 9 बजकर 47 मिनट पर वाशिंगटन के रक्षा विभाग के मुख्यालय पेंटागन पर हमले की खबर आई. प्लेन टकराने से पेंटागन का भी एक हिस्सा ढह गया. चौथा विमान कुछ समय बाद पीटसबर्ग हवाई अड्डे के समीप एक और विमान गिरने की खबर मिली.इस हमले में करीब तीन हजार लोग असमय काल के गाल में समा गए.

इस हमले के बाद अमेरिका ने उस इमारत खो दिया,जिस पर वो  इतराता था. इस हमले में सवार यात्रियों समेत करीब 3000 लोगों ने अपनी ज़िंदगी खो दी थी. रिपोर्ट्स के अनुसार इस मामले में मरने वाले अमेरिका सहित इसमें 90 देशों के लोग शामिल थे. इस हमले की जिम्मेदारी ओसामा बिन लादेन ने ली थी. जिसके बाद अमेरिका ने ओसामा के खिलाफ जंग छेड़ दी थी. जिसके बाद 2011 में अमेरिका को इसमें कामयाबी मिली थी। अमेरिका ने ओसामा  बिन लादेन को  2011 में पाकिस्तान के ऐबटाबाद में मार गिराया था

First published: 11 September 2018, 15:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी